अंतर्राष्ट्रीयटेक्नोलॉजी

मार्क जुकरबर्ग ने माना, 8 करोड़ 70 लाख फेसबुक यूजर्स के डेटा लीक, इंडिया के यूजर्स भी शामिल

सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक ने ये स्वीकार किया कि ब्रिटिश राजनीतिक कंसल्टेंसी कंपनी कैंब्रिज एनालिटिका ने आठ करोड़ 7० लाख से अधिक फेसबुक उपयोगकर्ताओं के निजी डाटा का गलत इस्तेमाल किया है।

कैंब्रिज: सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक ने ये स्वीकार किया कि ब्रिटिश राजनीतिक कंसल्टेंसी कंपनी कैंब्रिज एनालिटिका ने आठ करोड़ 7० लाख से अधिक फेसबुक उपयोगकर्ताओं के निजी डाटा का गलत इस्तेमाल किया है। इसमें से ज्यादातर अमेरिका से ताल्लुक रखते हैं। यह फेसबुक की तरफ से की गई पहली आधिकारिक पुष्टि है। हालांकि पहले आ रही मीडिया रिपोर्ट्स में माना जा रहा था कि 50 करोड़ लोगों के डेटा लीक हुए हैं।

फेसबुक के मुख्य प्रौद्योगिकी अधिकारी माइक स्क्रोफर ने विभिन्न मीडिया समूहों की ओर से किए जा रहे दावे से अधिक इस संख्या की जानकारी अपने कॉपारेट ब्लॉग पोस्ट पर देते हुए माना कि 8 करोड़ 7० लाख लोगों की जानकारियां कैम्ब्रिज एनालिटिका के साथ गलत तरीके से साझा की गईं।

कड़े कदम उठा रही है कंपनी

उन्होंने बताया कि कंपनी यूजर्स के निजी डाटा पर अधिक नियंत्रण के लिए कड़े कदम उठा रही है। कंपनी तीसरे पक्ष के एप डेवलपर्स के लिए उपलब्ध व्यक्तिगत डाटा को भी प्रतिबंधित कर रही है। गौरतलब है कि अमेरिकी और ब्रिटिश मीडिया ने पिछले महीने दावा किया था कि ब्रिटिश कंसल्टेंसी कंपनी कैंब्रिज एनालिटिका ने 5 करोड़ फेसबुक यूजर्स के डाटा का अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में गलत इस्तेमाल किया था। अमेरिका में 2016 के राष्ट्रपति चुनाव में डोनाल्ड ट्रंप ने इस कंपनी की सेवाएं ली थीं।

डेटा लीक रोकने नए बदलाव, नए प्राइवेसी शॉर्टकट मेन्यू

फेसबुक में नए प्राइवेसी शॉर्टकट मेन्यू भी बनाए जा रहे हैं, जिनसे यूजर्स को अपने अकाउंट और निजी जानकारियों पर पहले से ज्यादा नियंत्रण रखा जा सकेगा। इसके तहत यूजर्स इसकी समीक्षा कर सकेंगे कि उन्होंने क्या शेयर किया है और उसे डिलीट कर सकेंगे। इसके अलावा वे सभी पोस्ट जिन पर यूजर्स ने रिएक्ट किया है, जो फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजी है और फेसबुक पर जिसके बारे में सर्च किया है। सभी की समीक्षा की जा सकेगी। यूजर्स फेसबुक के साथ शेयर किए डेटा को डाउनलोड भी कर सकेंगे। इसमें अपलोड किए गए फोटो, कांटेक्ट्स और टाइमलाइन पर मौजूद पोस्ट को डाउनलोड किया जा सकेगा और किसी दूसरी जगह शेयर किए जाने की भी सुविधा होगी।

आने वाले हफ्तों में कंपनी अपनी टर्म आॅफ सर्विस और डाटा पॉलिसी को अच्छी तरह से यूजर्स के सामने रखेगी। कंपनी बताएगी कि उनसे किस तरह की जानकारी ली जा रही है और उसका क्या उपयोग किया जा रहा है।

Summary
Review Date
Reviewed Item
मार्क जुकरबर्ग ने माना, 8 करोड़ 70 लाख फेसबुक यूजर्स के डेटा लीक, इंडिया के यूजर्स भी शामिल
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *