छत्तीसगढ़राजनीति

मरवाही उप चुनाव : आरपी सिंह का आरोप-जोगी कांग्रेस और भाजपा के बीच हुई 10 करोड़ की डील

छत्तीसगढ़ के मरवाही में 3 नवंबर को चुनाव है.

ब्यूरो चीफ : विपुल मिश्रा
संवाददाता : मनीषा त्रिपाठी

छत्तीसगढ़ के मरवाही में 3 नवंबर को चुनाव है. इस बीच जोगी कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता धर्मजीत सिंह ने भाजपा के पूर्व मुख्यमंत्री डाक्टर रमन सिंह से बंद कमरे में गोपनीय बातचीत की और फिर बाहर आकर कहा–भले हमारा दल अलग है…लेकिन हमारा दिल एक है. देर रात जोगी कांग्रेस के सुप्रीमों अमित जोगी ने अपने एक बयान में साफ किया कि उनकी पार्टी के वरिष्ठ नेता धर्मजीत सिंह और प्रमोद शर्मा ने मरवाही की जनता से भाजपा को वोट देने के लिए अपील करने का फैसला कर लिया है. अमित जोगी ने यह भी बताया कि उनकी मां रेणु जोगी भी इस फैसले से सहमत है.

अंतागढ़ टेपकांड

वैसे कांग्रेस प्रारंभ से यह आरोप लगाती रही है कि जोगी कांग्रेस भाजपा की बी टीम है. अजीत जोगी और डाक्टर रमन सिंह की आपसी सांठगांठ के चलते कांग्रेस 15 साल तक सत्ता से बाहर थीं और अंतागढ़ टेपकांड हुआ था. यह भी सर्वविदित है कि इस टेपकांड में अजीत जोगी और उनके पुत्र अमित जोगी की भूमिका को लेकर सवाल उठे थे. अजीत जोगी कांग्रेस छोड़ने को मजबूर हो गए थे और अमित जोगी को तब के प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल ने बाहर का रास्ता दिखा दिया था. जोगी कांग्रेस के द्वारा भाजपा प्रत्याशी को खुलकर समर्थन दिए जाने के फैसले से यह तो साफ हो गया है कि प्रदेश में जोगी और भाजपा के कर्ताधर्ता मिल-जुल खेल कर रहे थे. उनकी आपसी सांठगांठ थीं

कांग्रेस प्रवक्ता आरपी सिंह का बयान काफी चौकाने वाला

इधर कांग्रेस के एक प्रवक्ता आरपी सिंह का बयान काफी चौकाने वाला है. उनका आरोप है कि जोगी कांग्रेस और भाजपा के बीच 10 करोड़ की डील हुई है. यह अभी पूरी तरह से कन्फर्म नहीं है, लेकिन कहा जा अंतागढ़ की तरह इस डील की बातचीत का कोई टेप भी कांग्रेस के हाथ लग गया है.

वरिष्ठ नेता धर्मजीत सिंह और पूर्व मुख्यमंत्री डाक्टर रमनसिंह की गोपनीय मुलाकात के बाद यह भी कहा जा रहा है कि धर्मजीत सिंह जल्द ही भाजपा ज्वाइन कर सकते हैं. हालांकि पत्रकारों से बेहद मधुर संबंध रखने वाले धर्मजीत सिंह ने कभी भी पुख्ता ढ़ग से यह ऐलान नहीं किया कि वे भाजपा ज्वाइन कर रहे हैं… लेकिन अब राजनीतिक गलियारों में चर्चा होने लगी है तो कोई क्या कर सकता है? एक गूंज तो यह भी बनी हुई हैं कि जोगी कांग्रेस के देवव्रत सिंह और प्रमोद शर्मा जल्द ही कांग्रेस ज्वाइन कर रहे हैं.

बहरहाल यह देखना दिलचस्प होगा कि मरवाही का चुनाव किस करवट बैठता है. वैसे राजनीति को जानने-समझने वाले धुरंधर मानते हैं कि यह चुनाव जोगी कांग्रेस की जमीन और भाजपा की विश्वसनीयता को खत्म करने वाला साबित होगा

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button