मैट्रीमोनियल को दूल्हा नहीं ढूंढ़ पाना पड़ा महंगा, लगा 62 हजार रुपए का जुर्माना

फोरम ने एजेंसी को 50 हजार रुपए लौटाने को कहा

नई दिल्ली: आज के दौर में नया जनरेशन लड़का-लड़की एजेंसियों में ढूंढ लेते है, लेकिन अगर कोई मांगलिक हो तो उनका जोड़ी खोजना और भी ज्यादा मुश्किल हो जाता है। ठीक ऐसे ही मामला चंडीगढ़ का है।

दंपति ने दिसंबर, 2018 में शिकायत की थी कि 50 हजार रुपए का भुगतान करने के बावजूद मैट्रीमोनियल सेवा प्रदान करने वाली एजेंसी 2017 से अब तक उनकी चिकित्सक बेटी के लिए एक योग्य वर नहीं तलाश सकी। दंपति ने एजेंसी को बताया था कि उनकी बेटी मांगलिक है।

उन्होंने एजेंसी से चंडीगढ़ और आसपास के इलाकों के उन मांगलिक और पेशे से चिकित्सक कुंआरे लड़कों का बॉयोडाटा मांगा था जो जाट समुदाय के हों। लेकिन एजेंसी ने दंपति को जो बायोडाटा दिए वे वादे के मुताबिक नहीं थे। फोरम ने पाया कि एजेंसी ने अपने ग्राहक का समय बर्बाद किया और किसी भी योग्य युवक से उनकी मुलाकात नहीं करा सकी।

फोरम ने एजेंसी को 50 हजार रुपए लौटाने को कहा। बतौर जुर्माना कंपनी को ब्याज के रूप में सात हजार रुपए और कानूनी खर्च के रूप में पांच हजार रुपए देने के आदेश दिए। इसके अलावा उसे नौ फीसदी सेवा कर भी देना होगा।

सोशल मीडिया में वायरल हो रही खबर के मुताबिक इस विफलता के कारण एजेंसी पर 62 हजार रुपए का जुर्माना लगाया गया है। सुरेंद्र पाल सिंह चहल और उनकी पत्नी नरेंद्र कौर चहल की शिकायत पर चंडीगढ़ स्थित उपभोक्ता फोरम ने 62 हजार रुपये का जुर्माना लगाया।

Back to top button