निगम में कांग्रेस की किरकिरी, बजट पास नहीं करवा पाए मेयर प्रमोद दुबे

26 के मुकाबले 22 वोटों के अंतर से गिरा बजट प्रस्ताव, पहले भी हो चुका है ऐसा

रायपुर। नगर निगम में आज कांग्रेस को उसे समय अजीबो-गरीब हालात का सामना करना पड़ा जब महापौर प्रमोद दुबे अपना प्रस्तावित बजट पास नहीं करवा पाए। हालांकि उन्होंने इसका ठिकरा कांग्रेस के उन पार्षदों पर फोड़ा जो मतदान के वक्त सदन में मौजूद नहीं रहे। बता दें कि ऐसा दूसरी बार हुआ है जब कांग्रेस के मेयर की किरकिर सामान्य सभा में हुई।

बता दें कि संख्या बल के हिसाब से अभी रायपुर नगर निगम में कांग्रेस 29 पार्षद और बीजेपी के 32 पार्षद हैं। लेकिन खास बात ये रही कि कांग्रेस अपने पूरे पार्षदों का वोट भी नहीं डलवा पाई है। 29 में से 22 कांग्रेस ही पार्षद ही वोटिंग के दौरान सदन में मौजूद रहे। बाकी सदन के बाहर आए।

बता दें कि नगर निगम में शहर के विकास के लिए महापौर ने मंगलवार को 24 सौ 98 करोड़ रुपए का बजट पास किया था।

बजट प्रस्ताव गिरने पर वित्त विभाग के अध्यक्ष अजीत कुकरेजा ने इस मुद्दे पर बीजेपी पर जमकर निशाना साधा है। कुकरेजा ने कहा है कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है। ये कांग्रेस या प्रमोद दुबे या अजीत कुकरेजा का बजट नहीं था, ये पूरे रायपुर शहर का बजट था, हमने काफी कल्याणकारी योजनाओं को उसमें शामिल किया था, कांग्रेस को योजनाओं में संशोधन कराना चाहिए थे। लेकिन, अच्छे सुझाव देना तो दूर पूरी सामान्य सभा में सिर्फ हंगामा और नारेबाजी करना ही उनका काम था। बजट पास कराने में उन्हें सहयोग करना चाहिए था, उन्होंने तो बजट की गिरवा दिया।

advt
Back to top button