मेडिकल कॉलेज : लापरवाही के चलते गर्भ में ही बच्चे की मौत, गर्भवती को भी खतरा

जगदलपुर: मेडिकल कॉलेज गायनिक डिपार्टमेंट में भर्ती महिला को पांच दिनों तक कोई डॉक्टर देखने नहीं आया, इसलिए उसके गर्भ में पल रहे बच्चे की मौत हो गई। इतना ही नहीं अब मां की जान भी खतरे में है।

यह आरोप है शहर के कुम्हारपारा स्थिति सेंट्रल स्कूल के पास रहने वाले महिला के पति बादल चौधरी का। बताया जा रहा है कि महिला पीलिया से पीडि़त थी, और पांच दिन पहले उसे मेडिकल कॉलेज में लाया गया था।

महिला के परिजन का कहना है कि गर्भवती महिला के पीलिया पीडि़त होने के बाद वे पांच दिनों पहले उसे मेडिकल कॉलेज लेकर गए थे। इन पांच दिनों में न तो डाक्टरों ने महिला का ठीक से इलाज किया और न ही परिजन को महिला की स्थिति के संबंध में कोई जानकारी दी।

बादल चौधरी ने बताया कि उनकी पत्नी मंजू चौधरी गर्भवती थी और पीलिया की चपेट में आ गई थी। इसके बाद उसे मेडिकल कॉलेज में भर्ती करवाया गया लेकिन पिछले ५ दिन से डाक्टर उसका क्या इलाज कर रहे है यही जानकारी नहीं दी गई और ऑपरेशन की तैयारी करने कहा गया इसी बीच शुक्रवार मूझसे कुछ दस्तावेज में हस्ताक्षर करवाए गए और कहा गया कि अपनी पत्नी को वालटियर ले जाओ।

Back to top button