हेल्थ

Meditation से पाएं Healthy Lifestyle

भागदौंड भरी जिंदगी में आज हर 5 में से तीसरा शख्स तनाव से ग्रस्त है। यहीं, तनाव कई अन्य गंभीर बीमारियों का कारण भी बनता है। तनाव यानि की डिप्रैशन में व्यक्ति अंदर ही अंदर घुटता रहता है।

डिप्रैशन होने के बहुत सारे कारण हो सकते हैं और यह किसी भी रूप में आपके सामने आ सकता है। एेसे में बहुत जरूरी है तनावमुक्त रहना। तनाव से छुटकारा पाने के लिए लोग कई तरीके अपनाते हैं लेकिन इससे मुक्ति पाने का सबसे अच्छा तरीका है मेडिटेशन।

इससे खुशी का अनुभव और मन को शांति मिलती है लेकिन इसका सही तरीका पता होना भी बहुत जरूरी है।

क्या है मेडिटेशन

मेडिटेशन यानि की ध्यान। ध्‍यान के जरिए आप अपने अशांत मन को शांत कर सकते हैं। मेडिटेशन किसी वस्तु पर अपने विचारों का केन्द्रीकरण करना नहीं है बल्कि यह विचार रहित होने की प्रक्रिया है।

इसमें अपनी आंखों को बंद करके बैठना होता है, जिससे धीरे-धीरे आराम अनुभव होने लगता है। शुरुआत में इस प्रक्रिया को करते समय काफी कठिनाई होती है लेकिन धीरे-धीरे ध्यान लगाना आ जाता है। मेडिटेशन विज्ञान से भी जुड़ा है।

कई शोधों में पाया गया है कि नियमित ध्यान लगाने से दिमाग स्वस्थ होता है और साथ ही आपकी स्मरण शक्ति तेज होती है। इसका उपयोग काफी समय से होता आ रहा है हालांकि आज इसका क्रेज ज्यादा देखने को मिल रहा है।

यह तन और मन दोनों को क्रियाशील बनाता है। अपनी डेली रूटीन में इसे शामिल करना बहुत जरूरी है।

 

मेडिटेशन से रखें खुद को स्वस्थ 

-डिप्रैशन से रहे दूर 

अक्सर काम और परिवार को लेकर कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है। कुछ लोग ऐसी स्थिति में मानसिक रोग का शिकार हो जाते हैं। इस तनाव से छुटकारा पाने का अच्छा तरीका है ध्यान लगाना। इससे एकाग्रता बनी रहती है,जिससे मन के अंदर की उथल-पुथल शांत हो जाती है।

-ब्लड प्रैशर कंट्रोल

तनाव, घर परिवार की टेंशन और काम का प्रैशर हाई ब्लड प्रैशर की समस्या को जन्म देता है, जिससे दिल की बीमारियों का खतरा बना रहता है। रोजाना 15-20 मिनट मेडिटेशन करने से यह परेशानी दूर हो जाती है।

-प्रतिरोधक क्षमता मजबूत

ध्यान लगाने से शरीर के अंदर की इंद्रियां एक्टिव हो जाती हैं, जिससे शरीर में नई उर्जा का संचार होता है और नए टिशुओं का निर्माण होने से रोगों से लड़ने की शक्ति मजबूत हो जाती है।

-भरपूर और सुकून भरी नींद

टेंशन की वजह से अगर आपको नींद नहीं आती तो दिन में कुछ समय मेडिटेशन के लिए निकालें। इससे आपको स्लिपिंग पिल्स लेने की जरूरत नहीं पड़ेगी।

-सूजन और शरीर दर्द

तनाव में कुछ लोगों को नींद नहीं आती और कुछ लोग खाना पीना छोड़ देते हैं जो मोटापे का कारण भी बनती है। इससे शरीर के  अंदरूनी व बाहरी दोनों हिस्सों में सूजन आने लगती है। मेडिटेशन करने से धीरे-धीरे सूजन कम होने लगती है और शरीर दर्द से भी आराम मिलता है।

मेडिटेशन के और भी बहुत सारे फायदे

-अकेलेपन की छुट्टी

बहुत सारे लोग अकेलापन के शिकार हो जाते हैं। खुद में खोए रहते हैं और लोगों से दूरी बना लेते हैं जो डिप्रैशन का ही एक हिस्सा है। ध्यान लगाकर आप अपने अकेलेपन को भी दूर कर सकते हैं। आप में आत्म विश्वास भरता हैं और खुलकर अपनी प्रॉब्लम शेयर करते हैं और अपनी भावनाओं को दूसरों को समझा पाते हैं। इससे सोशल लाइफ में भी एक्टिव हो जाते हैं।

-सकारात्मक विचार

अक्सर तनाव में रहने से लोगों के मन में नकरात्मक विचार आने लगते हैं। वह खुद को कमजोर समझने लगते हैं। मेडिटेशन करने से मन में सकारात्मक विचार आते हैं। जब आपके मन में पॉजिटव विचार आएंगे तो आप खुद-ब-खुद क्रिएिटव बनेंगे।

-निखरती खूबसूरती

हर रोज ध्यान लगाने से शरीर मेें नई कोशिकाओं का निर्माण होना शुरू हो जाता है, जिसका असर चेहरे पर भी पड़ता है। त्वचा पर नैचुरल ग्लों बरकरार और मन भी तरो-ताजा रहता है। इससे त्वचा पर नमी भी बरकरार रहती है।

इन बातों का रखें ध्यान

ध्यान से पहले और बाद में कुछ बातों का ध्यान रखना बहुत जरूरी है ताकि आपको कोई परेशानी न हो।

– ध्यान लगाने से पहले खाना न खाएं या फिर हल्का भोजन लें। मेडिटेशन से पहले ज्यादा खाना खाने से नींद आने लगती है और आप ठीक तरह बैठ भी नहीं पाते। एेसे में खाली पेट इस प्रक्रिया को करना बेहतर होगा।

– नहाने के बाद मेडिटेशन प्रक्रिया शुरू करें। इससे आप तरो-ताजा अनुभव करते हैं।

– मेडिटेशन करने से पहले अपना मनपसंद काम करें जैसे कि म्यूजिक सुनना या फिर वॉक करना। इससे आप रिलैक्स महसूस करेंगे।

– इस प्रक्रिया से 5-10 मिनट पहले धीरे-धीरे गहरी सांस लें। इसके अलावा इस दौरान कपड़ों का खास ध्यान रखें। ढीले और अरामदायिक कपड़ें पहनें।

– इसके लिए शांत वातावरण का चुनाव करें ताकि मेडिटेशन करते समय आपका  ध्यान न भटकें।

Summary
Review Date
Reviewed Item
Meditation
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.