मिलिए 7 साल के सबसे छोटे जादूगर से ,कारनामे जानकर आप भी रह जाएंगे दंग

नन्हे जादूगर की तमन्ना है कि वह दुनिया का सबसे बड़ा जादूगर बने और देश का नाम रोशन करे

मुंबई। सात साल के नन्हे जादूगर स्वरांग प्रीतम रणदिवे का जादू देखकर लोग दंग रह जाते हैं। महाराष्ट्र के विरार का यह बच्चा इतनी कम उम्र में जादूगरी के 60 तरह के खेल दिखाता है।

जादूगरी की दुनिया में उसे भारत का सबसे छोटा जादूगर माना जाता है। इतनी कम उम्र में ही स्वरांग ने कई सारे राष्ट्रीय पुरस्कार जीते हैं। नन्हे जादूगर की तमन्ना है कि वह दुनिया का सबसे बड़ा जादूगर बने और देश का नाम रोशन करे।

पिता भी जादूगर


बैंक में कैशियर का काम करने वाले स्वरांग के पिता प्रीतम भी एक जादूगर हैं। स्वरांग के अंदर छुपे जादूगरी के हुनर को उन्होंने साढ़े तीन साल में ही पहचान लिया था, तब से वह नन्हे जादूगर को बढ़ावा देने लगे।

स्वरांग ने जादूगरी का पहला शो साढ़े तीन साल की उम्र में श्री साई बाबा संस्थान शिर्डी में किया था। आज यह नन्हा जादूगर विरार के जॉन ट्वेंटीथर्ड हाई स्कूल में दूसरी क्लास में पढ़ता है।

नन्हे जादूगर के पिता प्रीतम कहते हैं कि स्वरांग प्रतिदिन घर पर एक घंटा जादू का अभ्यास करता है और जिस दिन शो होता है ,उस दिन पहले वह तीन घंटे अभ्यास करता है। अब तक उसने नेपाल सहित देशभर के शहरों में 157 जादू के शो किए हैं।

प्रीतम कहते हैं कि साल 2017 में हैदराबाद में ‘इंडिवुड फिल्म कार्निवल 2017’ हुआ था, जिसमें भारत भर से 200 से ज्यादा कलाकारों ने भाग लिया। यहां स्वरांग को द्वितीय पुरस्कार मिला।

1
Back to top button