छत्तीसगढ़

प्राइवेट छात्रों से की जा रही अवैध वसूली के संबंध में कुलसचिव को ज्ञापन

रिपोर्टर प्रणव कुमार:

बिलासपुर: अटल बिहारी वाजपेयी यूनिवर्सिटी में प्राइवेट छात्रों से की जा रही अवैध वसूली के संबंध में यूनिवर्सिटी के कुलसचिव को एनएसयूआई कार्यकर्ताओं द्वारा ज्ञापन दिया गया। ज्ञापन में लिखा गया है कि महोदय आपने हमेशा छात्रों के हित में काम किया है।

अटल बिहारी वाजपेयी यूनिवर्सिटी में अभी प्राइवेट छात्रों का नामांकन और परीक्षा फॉर्म भरा जा रहा है। प्राइवेट वही छात्र ऐडमिशन लेते हैं जो रेगुलर पढ़ाई के फीस का बोझ नही उठा पाते है। अब ऐसे में अटल बिहारी वाजपेयी यूनिवर्सिटी में प्राइवेट छात्रों से भी जिस सुविधा की उन्हें यूनिवर्सिटी ही अनुमति नही देती है, उसकी फीस अवैध रूप से वसूल रही है।

यूनिवर्सिटी इसमे खेल के नाम पर प्रति छात्र 50 रुपया, लाइब्रेरी के नाम पर 30 रुपया, छात्र कल्याण शुल्क 20 रुपया, कुलपति आकस्मिक सहायता निधि के नाम पर 10 रुपया और परीक्षा देने के अनुमति शुल्क के नाम पर 170 रुपये अवैध रूप से वसूल रही है।

हर साल 70000 से 80000 हजार छात्र प्राइवेट एडमिशन लेते हैं। पिछले 7 सालों में यूनिवर्सिटी 14 करोड़ से ज्यादा रुपये छात्रों से वसूली है। जिसका लाभ यूनिवर्सिटी रेगुलर छात्रों को भी नहीं दे पा रही है। जिनका अधिकार है।

महोदय आपसे निवेदन है कि अटल बिहार वाजपेयी यूनिवर्सिटी में की जा रही अवैध वसूली तत्काल रूप से बंद की जय और सभी छात्रों का पैसा वापस किया जाय। सभी प्राइवेट छात्र आपके आभारी रहेंगे।

NSUI की प्रमुख मांग वंदना दीवान के इलाज का खर्च कुलपति निधि से दिलवाया जाए

इन प्रमुख मांगों के साथ NSUI छात्र संघ के युवाओं की एक मांग यह भी रही कि कुछ दिन पहले अटल विश्वविद्यालय यूटीडी की छात्रा का एक्सीडेंट हुआ था (वंदना दीवान) जो अपोलो हॉस्पिटल में भर्ती है जिसा खर्च 700000 रहा है हमारी मांग है कि उसकी उसके इलाज के लिए कुलपति अकस्मिक निधि से उसका इलाज करवाया जाए

इसमें मुख्य रूप से एनएसयूआई के प्रदेश सचिव सोहेल खालिक, अभिजीत भट्टाचार्य, आशु मुखर्जी, उत्कर्ष साहू, राजिक खान, सूर्या सिंह, अक्षत कौशिक, सोहेल खान, अमन यादव, श्रेयांश अग्रवाल, संकल्प राठौर, अमन वर्मा, हिमांशु राव, मगर जुनेद खान, हर्ष चौरसिया, अभिषेक कश्यप आदि एनएसयूआई कार्यकर्ता उपस्थित थे।

Back to top button