छत्तीसगढ़

मरवाही विधानसभा के छात्रावासों में घोर लापरवाही, हो न्यायिक जांच: अजीत जोगी

- लापरवाही की वजह से 05 जनवरी 2019 को गौरेला छात्रावास में छठवीं कक्षा की छात्रा की हुई मौत

रायपुर।

पूर्व मुख्यमंत्री और मरवाही विधायक अजीत जोगी ने मरवाही विधानसभा में संचालित हो रहे छात्रावासों की सुरक्षा में हो रही लापरवाही और गौरेला में कक्षा छठवी की छात्रा की मौत से व्यथित होकर पूरे मामले की न्यायिक जाँच की मांग की है।

इस संबंध में उन्होंने आदिम जाति कल्याण विभाग के मंत्री प्रेमसाय सिंह टेकाम को पत्र भेजा है। पत्र में जोगी ने कहा है कि उनके विधानसभा क्षेत्र मरवाही में स्थित छात्रावासों के संचालन सुरक्षा में लापरवाही की शिकायत सामने आई है।

छात्रावास के प्रबंधन और संचालन में लापरवाही की वजह से 5 जनवरी 2019 को कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय गौरेला में कक्षा छठवीं में अध्ययनरत छात्र वृंदा नायक की मौत हो गई। जानकारी के मुताबिक यह छात्रा गौरेला वि.खं. के बोकरामुडा की रहने वाली थी।

बीते 4 जनवरी 2019 की शाम उसकी तबीयत खराब होने की वजह से उसे हॉस्टल की रसोई या सेनेटोरियम लेकर गई तथा रात में वापस ले गई। रात में तबीयत बिगड़ने पर सुबह उसे फिर सेनेटोरियम इलाज हेतु लाया गया पर इलाज के दौरान लगभग सुबह 11:30 बजे उसकी मौत हो गई ।छात्रा वृंदा नायक की मौत में हॉस्टल प्रबंधन की लापरवाही परिलक्षित हो रही है।

इसी तरह की एक अन्य घटना के बारे में बताते हुए जोगी ने कहा है कि प्री मैट्रिक आदिवासी कन्या छात्रावास सकोला वि.ख. पेण्ड्रा में प्री मैट्रिक आदिवासी कन्या छात्रावास रूमगा वि.ख. मरवाही के संचालन में अधीक्षक द्वारा लापरवाही बरती जा रही है। प्री मैट्रिक आदिवासी कन्या छात्रावास सकोला पेंड्रा के संबंध में शिकायत है कि अधीक्षिका एवं सुरक्षा गार्ड शीतकालीन अवकाश के बाद 2 जनवरी तक छात्रावास में कर्तव्य पर उपस्थित नहीं रही।

मीडिया द्वारा इस तथ्य को उजागर करने के बाद अधीक्षिका द्वारा मीडियाकर्मियों पर ही मनगढ़ंत आरोप लगाकर पुलिस चौकी में शिकायत कर उन्हें फंसाने की कोशिश भी की गई । प्री मैट्रिक आदिवासी कन्या छात्रावास सकोला के संबंध में शिकायत है कि अधीक्षिका कर्तव्य से अक्सर गायब रहती है तथा रसोइए के भरोसे उन्हें छोड़ दिया जाता है, साथ ही छात्राओं की सुरक्षा भगवान भरोसे रहती है ।

एक और छात्रावास के बारे में बताते हुए अजीत जोगी ने कहा है कि इसी तरह की शिकायत प्रीमैट्रिक आदिवासी कन्या छात्रावास रूमगा मरवाही की भी है। यहां की अधीक्षिका द्वारा छात्राओं को विगत 1 माह से रोज खाने में आलू की सब्जी और दाल चावल दिया जा रहा है जबकि नाश्ते का कोई प्रबंध नहीं किया जा रहा है, साथ ही अधीक्षिका रोज शाम को सिर्फ 1 घंटे के लिए ही आती है और छात्राओं को रसोइए के भरोसे छोड़ कर चली जाती है।

यहां पर उल्लेखित है कि पूर्व में मरवाही के ग्राम करहनी स्थित प्रीमैट्रिक आदिवासी कन्या छात्रावास में अधीक्षिका द्वारा देर रात तक डी जे पार्टी आयोजित की गई थी जिसमें पुरुष अधीक्षक भी सम्मिलित थे। प्रशासन द्वारा सरपंच की शिकायत पर करहनी में छात्रावास में देर रात छापा मारकर आपत्तिजनक सामग्री डीजे सहित जबकि गई थी, बाद में आदिवासी विकास विभाग द्वारा मामले में लीपापोती कर दी गई।

जोगी ने कहा कि उनके क्षेत्र में स्थित आदिवासी छात्रावास एवं आवासीय विद्यालयों के संचालन में अनियमितता एवं लापरवाही बरती जा रही है जिसका खामियाजा गरीब आदिवासी छात्र छात्राओं को भोगना पड़ रहा है।

शासन – प्रशासन को झालियामारी घटना की याद दिलाते हुए अजीत जोगी ने कहा कि छात्रावासों के संचालन में लापरवाही के कारण ही कांकेर जिले के झालियामारी आदिवासी आश्रम में अबोध बच्चों के शोषण की घटना घटित हुई थी जिसे भूलना ठीक नहीं होगा। अजीत जोगी ने मंत्री से आग्रह किया है कि पूरे मामले की न्यायिक जांच कराते हुए आदिवासी छात्रावासों एवं आवासीय विद्यालयों में सुव्यवस्थित संचालन एवं सुरक्षा सुनिश्चित की जाए ।

Summary
Review Date
Reviewed Item
मरवाही विधानसभा के छात्रावासों में घोर लापरवाही, हो न्यायिक जांच: अजीत जोगी
Author Rating
51star1star1star1star1star
congress cg advertisement congress cg advertisement
Tags