सड़क पर 20 मिनट तक पड़े रहे, मदद न मिलने पर 2 की मौत

नई दिल्ली: नवरात्र के पहले दिन बाइक से छतरपुर मंदिर दर्शन करने जा रहे 3 दोस्त हादसे का शिकार हो गए, जिनमें से 2 की मौत हो गई।

तीसरा अस्पताल में जिंदगी और मौत की बीच झूल रहा है। मरने वालों में मनीष (19) और कन्हैया (19) हैं, जबकि गोलू (19) गंभीर रूप से घायल है।

तीनों का घर उत्तम नगर, मोहन गार्डन के विकास कुंज इलाके में है। लड़कों के परिजनों ने बताया कि दोनों की जान बचाई जा सकती थी।

अगर सड़क पर पड़े इन तीनों दोस्तों में से कन्हैया को कोई अनजान वीकल रौंदते हुए न भागता और आसपास से गुजरने वाले तमाशबीन नहीं बने रहते।

हादसे के करीब 20 मिनट बाद एक अच्छे इंसान ने अपनी कार में मनीष को अस्पताल पहुंचाया लेकिन वहां कोई सीनियर डॉक्टर मौजूद नहीं था।

इस कारण उसका ठीक से इलाज नहीं हो सका। गुरुवार देर रात करीब 11 बजे साउथ-वेस्ट दिल्ली के कैंट थाना इलाके से होकर तीनों दोस्त एक बाइक से छतरपुर मंदिर जा रहे थे।

इनके दोस्त कमलेश ने बताया कि उस दिन 12 दोस्त 4 बाइक से घर से छतरपुर मंदिर जा रहे थे। मनीष वाली बाइक उनसे कुछ आगे निकल गई थी। उस पर मनीष, कन्हैया और गोलू थे।

पुराना नांगल गांव के पास पंखा रोड फ्लाइओवर से जब वे उतर रहे थे, तब उन्हें पता लगा कि एक बाइक पर सवार उनके कुछ दोस्त रॉन्ग साइड पर सड़क पर गिरे हुए हैं।

उनके बाकी दोस्त भी वहां पहुंच गए। उन्होंने देखा कि कन्हैया के ऊपर से कोई गाड़ी गुजर गई थी। उसके शरीर का एक हिस्सा बुरी तरह जख्मी था।

मनीष डिवाइडर के पास पड़ा हुआ था। कन्हैया की सांसें नहीं चल रहीं थीं लेकिन मनीष और गोलू जिंदा थे। गोलू बोलने की कोशिश कर रहा था लेकिन बोल नहीं पा रहा था।

सारे दोस्त वहां से गुजरने वाली गाड़ियों को रोकने की कोशिश करते रहे लेकिन किसी ने अपनी कार या ऑटो को नहीं रोका।

करीब 20 मिनट बाद एक शख्स ने मनीष को अपनी कार में लिटाया। सब उसे लेकर माता चानन देवी अस्पताल ले गए।

इसके कुछ देर बाद ही घायल गोलू को भी माता चानन देवी अस्पताल ले आया गया। गोलू के बड़े भाई रंजय और मनीष के पिता रंजीत कुमार ने बताया कि अस्पताल में कोई सीनियर डॉक्टर नहीं था। आरोप है कि इस कारण घायलों को समय पर उचित इलाज नहीं मिल सका।

अस्पताल ले जाने के करीब 15 मिनट बाद मनीष ने वहां दम तोड़ दिया। गोलू को पहले दूसरे अस्पताल में ले जाने के लिए कहा गया।

फिर कहा गया कि पर्चा बनाते हैं। रंजय ने आरोप लगाया कि गोलू का इलाज शुरू करने से पहले उनसे 40 हजार रुपये जमा करने के लिए कहा गया।

उनके पास तुरंत पैसे नहीं थे। इलाज शुरू न होने पर वह गोलू को एम्स ट्रॉमा ले गए। उसकी हालत नाजुक है।

परिवार का आरोप है कि इस मामले में दिल्ली कैंट थाना पुलिस जांच में लापरवाही बरत रही है। आरोप है कि जब किसी ने एक्सिडेंट होते देखा ही नहीं तो फिर पुलिस उनसे यह कैसे कह रही है कि उनकी बाइक स्लिप हुई थी।

बाइक की हालत देखकर लगता है कि इसे किसी गाड़ी ने टक्कर मारी है। इससे वे लोग रॉन्ग साइड पर जा गिरे। परिजनों का कहना है कि मौके पर कुछ सीसीटीवी कैमरे भी लगे हुए हैं।

अगर पुलिस उनकी छानबीन करेगी तो पता लग जाएगा कि यह दुर्घटना कैसे हुई। उनका आरोप है कि पुलिस इस मामले में लापरवाही बरत रही है।

Back to top button