रेत खदानों के आसपास लाखों का जुआ, फोन काॅल से दी जा रही फड़ की जानकारी

जिले में बेखौफ चल रहा जुआ का कारोबार

धमतरी। धमतरी जिले में एक बार फिर से जुआ और सटटे का जोर शुरू हो गया है। लाखों के जुआ फड़ शहर से कुछ किलो मीटर की दूरी पर संचालित हो रहे है। जुआ फड़ चलाने वालों ने बकायदा कोड वर्ड भी तैयार किया है। जिसके जरिये वे जुआरियों को सूचना पहुंचाते है और उन्हें जुआ फड़ तक पहुंचने में मदद करते है।

इसी में एक कोड वर्ड की चर्चाएं शहर में जोरों पर है।जिसमें से हैलो शुरू हो चुका है फड़ जैसा कोड वर्ड शामिल है। इस तरह के फोन काॅल इन दिनों शहर के युवाओं को आना शुरू हो चुका है। बकायदा मोबाईल से जुआ अडडे का लोकेशन भी बताया जाता है।

बड़ी संख्या में शहर के संभ्रात परिवार के युवक बावन परियों पर दांव लगाने पहुंच रहे है। हांलाकि पूरे मामले से पुलिस वाकिफ तो है, लेकिन कोई ठोस कार्रवाई नहीं होने से पुलिसिया कार्यशैली पर सवालिया निशान लग रहा है।

सूत्रों की माने तो अर्जुनी थाना इलाके में संचालित होने वाले रेत खदानों के आसपास ही रोजाना लाखों का दांव लग रहा है। ये फड़ संचालित करने वाले लोग पहले केरेगांव थाना इलाके में जंगलों की आड़ में अपना गोरखधंधा बेखौफ संचालित कर रहे थे।

जिसमें कई सफेदपोश लोग भी शामिल है। मीडिया में सुर्खिया बनने के बाद फड़ चलाने वालों ने अपना ठिकाना ही बदल लिया और अब नये जगहों पर रोजाना लाखों का दांव खेला रहे है। सूत्रों की माने तो फड़ में काम करने वाले कुछ युवकों के खिलाफ पहले भी पूल टेबल की आड में जुआ चलाने का मामला दर्ज हो चुका है जो कि फिर से जुआ के कारोबार में रोटी सेकने की फिराक में है। इनका उठना-बैठना और वाहनों में चलना-फिरना कुछेक सफेदपोश नेताओं के साथ देखा जा रहा है।

सूत्रों का ये भी कहना है कि पुलिस को इनके तमाम ठिकानों की जानकारी है। लेकिन जानबुझकर कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। ऐसे में इनसे मिली भगत की संभावना ही जताई जा रही है। बहरहाल अब देखना है कि पुलिस कप्तान इन जुआरियों के खिलाफ क्या कार्रवाई कराते है।

Back to top button