मंत्री सिंहदेव बोले-जवाबदारी हमारे तंत्र की है, जांच होनी चाहिए

रायपुर। कांग्रेस सरकार के मंत्री टीएस सिंहदेव ने घटना पर दुख जताते हुए कहा है कि जवाबदारी हमारे तंत्र की है। इसकी जांच होनी चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि जब वे विपक्ष में थे, तब भी सूचनातंत्र और यंत्रों के अभाव की बात उठाते थे।

सिंहदेव ने बताया कि जब उन्हें नक्सली घटना में भाजपा विधायक भीमा मंडावी और चार जवानों के मारे की खबर मिली, उस वक्त वे ओडिशा के नयागढ़ में थे। सिंहदेव ने कहा कि यह अपने आप में दुखद घटना है।

इस बात की समीक्षा होनी चाहिए कि चूक क्यों हुई? जब जनप्रतिनिधि जा रहे थे, तो उन्हें वैसी सुरक्षा मिलनी चाहिए थी। जब बस्तर लोकसभा क्षेत्र के बाहर दो-तीन और नक्सली घटनाएं पहले हो चुकी थीं, तो और ज्यादा सतर्क रहने की आवश्यकता थी।

उनके अनुसार वीआइपी की सुरक्षा में कमी कहां रह गई, इसे जानने के लिए हर संभव जांच होनी चाहिए। सिंहदेव ने कहा कि अगर, एम्बुस लगाकर गोलियां चलाई गई होती, तो नक्सली छिपकर हमला करते। अभी तो आइईडी लगा था, तो उसे डिटेक्ट क्यों नहीं कर पाए? घटना जिन परिस्थितियों में हुई है, वह सूचनातंत्र का अभाव और यंत्रों की कमी को दर्शाती है।

उनके अनुसार पहले तो यही जांच होनी चाहिए कि रोड ओपनिंग पार्टी लगी थी या नहीं, आइईडी डिटेक्टर का उपयोग हुआ या नहीं, बख्तरबंद गाड़ी क्यों उपलब्ध नहीं कराई गई? यदि, रोड ओपनिंग पार्टी लगी थी और आइईडी डिटेक्टर का उपयोग हुआ था, कारगर क्यों नहीं हुआ, यह भी जांच विषय हो।

सिंहदेव ने कहा कि चुनाव के समय प्रशासन चुनाव आयोग के अधीन आ जाता है, लेकिन पुलिस विभाग और अर्द्धसैनिक बल की जिम्मेदारी तो रहती ही है। प्रदेश में हमारी सरकार है, इसलिए जवाबदारी हमारे तंत्र की है। एक तरह से सब सामूहिक रूप से जवाबदार हैं। भविष्य में ऐसा न हो, यह सुनिश्चित करना भी हमारी जवाबदारी है।

Back to top button