नवा रायपुर में मंत्रीगण व सभी वरिष्ठ अधिकारी रहेंगे, तो धीरे-धीरे शहर बसेगा :सीएम

राजभवन, मुख्यमंत्री निवास सहित अन्य आवासीय परिसरों का हुआ भूमिपूजन

रायपुर:नवा रायपुर में राज्य स्तरीय प्रशासनिक व्यवस्थाएं एवं चहुंमुखी विकास हेतु नया रायपुर क्षेत्र विकसित किया जा रहा है। वर्तमान में यहां मंत्रालय, सचिवालय एवं विभिन्न विभागों के राज्य स्तरीय कार्यालयों का संचालन हो रहा है।

आवास निर्माण तथा परिसर के अधोसंरचना विकास कार्य

नया रायपुर क्षेत्र की बसाहट में तेजी लाने एवं प्रशासनिक दृष्टिकोण से नवा रायपुर के सेक्टर-24 एवं सेक्टर-18 में राजभवन, मुख्यमंत्री आवास, मंत्रीगणों के आवास, वरिष्ठ अधिकारियों के लिए आवास निर्माण तथा परिसर के अधोसंरचना विकास कार्य किया जाएगा।

दरबार हॉल और सचिवालय भवन सहित विभिन्न भवन

राजभवन कुल 12.60 एकड़ में विकसित होगा। यहां दरबार हॉल और सचिवालय भवन सहित विभिन्न भवन होंगे। मुख्यमंत्री आवास एवं कार्यालय 7.50 एकड़ में होगा। विधानसभा अध्यक्ष आवास एवं कार्यालय के लिए 3.19 एकड़ भूमि आवंटित की गई है। इसी प्रकार मंत्रीगण व नेता प्रतिपक्ष आवास एवं कार्यालय 1.50 एकड़ में होगा। ऐसे 13 आवास बनाए जाएंगे।

निर्माण कार्य के लिए 24 माह की समयावधि तय

वरिष्ठ अधिकारियों हेतु 85 आवास बनाए जाएंगे। प्रत्येक आवास 0.45 एकड़ में निर्मित होगा। इन कार्यों के लिए सेक्टर-24 में 158 एकड़ पर तथा सेक्टर-18 में 64 एकड़ कुल 222 एकड़ भूमि आबंटित की गई है, निर्माण कार्य के लिए 24 माह की समयावधि तय की गई है।

यह परियोजना 591.75 करोड़ रुपए की लागत से पूरी

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने धनतेरस पर राजभवन, मुख्यमंत्री निवास सहित अन्य आवासीय परिसरों का भूमिपूजन किया। यह परियोजना नवा रायपुर अटल नगर में 591.75 करोड़ रुपए की लागत से 24 माह में पूरी होगी।

मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा

इस दौरान मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि देश में कई राज्यों में नई विकसित की गई राजधानियों में भी अब तक बसाहट नहीं हो पाई है, इसी तथ्य को ध्यान में रखकर हमने यह फैसला किया है,

बाजार और अस्पताल भी विकसित

पहले यहां मुख्यमंत्री, विधानसभा अध्यक्ष, मंत्री परिषद के सदस्य और सभी वरिष्ठ अधिकारी रहेंगे, तो धीरे-धीरे शहर बसेगा। छोटे अधिकारी कर्मचारी भी यहां बसेंगे, तो बाजार और अस्पताल भी विकसित होंगे। बघेल ने इस अवसर पर प्रदेशवासियों को धनतेरस पर्व की बधाई और शुभकामनाएं दी।

सोनिया गांधी ने वर्ष 2001 में किया था नई राजधानी का शिलान्यास

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उन्होने कहा कि नई राजधानी का शिलान्यास सोनिया गांधी ने वर्ष 2001 में किया था, तब से लेकर अब तक यहां हजारों करोड़ रुपए का पूंजी निवेश हुआ। सड़कें बन गयी, बिजली पानी की व्यवस्था भी हो गई लेकिन शहर अब तक नहीं बस पाया है।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के गढ़वो नवा छत्तीसगढ़ के संकल्प को पूरा करने की दिशा में काम

विधानसभा अध्यक्ष डॉ चरणदास महंत ने इस अवसर पर कहा कि हम सब मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के गढ़वो नवा छत्तीसगढ़ के संकल्प को पूरा करने की दिशा में काम कर रहे हैं। गांव से लेकर नवा रायपुर राजधानी तक गढ़ने का काम हम पूरा करेंगे।

लगभग 591 करोड़ रुपए की परियोजना का भूमि पूजन

उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ राज्य बने 19 बरस हो गए हैं लेकिन अब तक यहां निवेश की गई राशि का कितना उपयोग हुआ है, यह हम सब जानते हैं, धनतेरस के पावन अवसर पर आज नवा रायपुर में लगभग 591 करोड़ रुपए की इस परियोजना का भूमि पूजन किया गया है, जिससे यहां शहर बसे।

समय सीमा और निर्माण कार्य की गुणवत्ता का ध्यान

लोक निर्माण मंत्री ताम्रध्वज साहू ने कहा कि इस आवासीय परियोजना को पूरा करने के लिए अधिकारियों की एक टीम गठित की गई है। जिसे समय सीमा और निर्माण कार्य की गुणवत्ता का ध्यान रखने के निर्देश दिए गए हैं।

निर्धारित समय सीमा में पूरी की जाएगी यह परियोजना

इस टीम के अधिकारी परियोजना के शुरू होने से लेकर इसके पूरा होने तक का कार्य करेंगे, जिससे उनकी जिम्मेदारी भी तय की जा सकेगी। उन्होंने कहा कि यह परियोजना निर्धारित समय सीमा में पूरी की जाएगी। लोक निर्माण विभाग के अपर मुख्य सचिव अमिताभ जैन ने इस आवासीय परियोजना की विस्तृत जानकारी दी।

इस अवसर पर लोक निर्माण मंत्री ताम्रध्वज साहू, कृषि मंत्री रविंद्र चौबे, वन एवं पर्यावरण मंत्री मोहम्मद अकबर, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री टी एस सिंहदेव, महिला एवं बाल विकास मंत्री अनिला भेंड़िया , राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल, उद्योग मंत्री कवासी लखमा,

संस्कृति मंत्री अमरजीत भगत, स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ प्रेमसाय सिंह टेकाम, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री गुरु रूद्र कुमार, उच्च शिक्षा मंत्री उमेश पटेल, सांसद दीपक बैज, छाया वर्मा और सुनील सोनी, विधायक मोहन मरकाम, धनेन्द्र साहू , विकास उपाध्याय,

रायपुर के महापौर प्रमोद दुबे, जिला पंचायत रायपुर की अध्यक्ष शारदा देवी वर्मा, अपर मुख्य सचिव सी.के. खेतान और अमिताभ जैन सहित अनेक जनप्रतिनिधि और नागरिक तथा आसपास के गांवों के ग्रामीण बड़ी संख्या में इस अवसर पर उपस्थित है।

Back to top button