गिलोय से लिवर खराब होने की खबरों को आयुष मंत्रालय ने किया खारिज

गिलोय का भी आयुर्वेद में विशेष स्थान है, जिसका कोविड काल में लोगों ने खूब प्रयोग किया है।

दिल्ली : कोरोना काल में इम्यूनिटी बूस्टर के रूप में कई आयुर्वेदिक औषधियों का प्रयोग किया गया। गिलोय का भी आयुर्वेद में विशेष स्थान है, जिसका कोविड काल में लोगों ने खूब प्रयोग किया है। हालांकि कुछ समय पहले गिलोय से लिवर खराब होने की कई भ्रामक खबरें आने लगी, जिसे लेकर आयुष मंत्रालय ने स्पष्ट किया है कि गिलोय के सेवन से लिवर खराब नहीं होता।

मंत्रालय के मुताबिक आयुर्वेद में गिलोय का परंपरागत प्रयोग कई समस्याओं में होता है और इनमें लिवर रोग भी शामिल है तथा इसकी उपयोगिता आधुनिक विज्ञान के अनुरूप है। उन्होंने कहा कि जिन छह मरीजों के लिवर डैमेज हुए, वे पहले से ही कई रोगों से ग्रसित और दूसरी एलोपैथिक दवाएं ले रहे थे, ऐसे में इस सीमित शोध से कोई भी निष्कर्ष नहीं निकाला जा सकता।

शोधकर्ताओं ने कई महत्वपूर्ण मापदंडों की उपेक्षा की

मंत्रालय की तरफ से जारी बयान में कहा कि गया है कि शोधकर्ताओं ने कई महत्वपूर्ण मापदंडों की उपेक्षा की, जैसे- निर्माण में रासायनिक घटकों की पहचान, रोगियों द्वारा ली जाने वाली जड़ी-बूटी की मात्रा, नियोजित योगों और खपत की अवधि में व्यापक भिन्नता शामिल है। इसके अलावा, रोगियों के ब्लड और लिवर में गिलोय के रासायनिक तत्वों का विश्लेषण नहीं हुआ है। इसलिए इस सीमित शोध के परिणामों को गिलोय के उपयोग से बिल्कुल जोड़कर नहीं देखा जाना चाहिए। मंत्रालय ने कहा कि गिलोय जैसा दिखने वाले जड़ी-बूटी टिनोस्पोरा क्रिस्पा का लिवर पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है।

क्या है गिलोय का विवाद

एक शोध में कहा गया है कि इम्युनिटी बढ़ाने वाली गिलोय लिवर खराब कर रहा है। शोध के मुताबिक, 2020 के सितंबर से लेकर दिसंबर के बीच किए गए सर्वे में गिलोय का सेवन करने वाले छह मरीज ऐसे मिले, जिनके लिवर काफी खराब हो चुके थे। मरीज पीलिया और सुस्ती की शिकायत लेकर इलाज के लिए गए थे। इसके बाद कुछ डॉक्टरों ने यह पाया कि वे सभी गिलोय (टीनोस्पोरा कोर्डिफोलिया) का सेवन कर रहे थे।

आयुर्वेद में सबसे सक्षम औषधि है गिलोय

मंत्रालय के मुताबिक ऐसे तमाम वैज्ञानिक प्रमाण मौजूद हैं, जिनसे साबित होता है कि टीसी या गिलोय लिवर, धमनियों आदि को सुरक्षित करने में सक्षम है।आयुर्वेद में सबसे ज्यादा लिखी जाने वाली औषधि गिलोय ही है। गिलोय में लिवर की सुरक्षा के तमाम गुण मौजूद हैं और इस संबंध में उसके सेवन तथा उसके प्रभाव के स्थापित मानक मौजूद हैं। किसी भी क्लीनिकल अध्ययन या फार्मा को-विजिलेंस द्वारा किये जाने वाले परीक्षण में उसका विपरीत असर नहीं मिला है।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button