अनाथालय में नाबालिग लड़की को संचालक ने बनाया हवस का शिकार

हैदराबाद के सिकंदराबाद में अनाथालय में रहने वाली नाबालिग लड़की के साथ संस्था संचालक द्वारा हवस का शिकार बनाने का मामला सामने सामने आया है. पीड़िता की एक रिश्तेदार की शिकायत पर पुलिस ने आरोपी के खिलाफ आईपीसी की धारा 376 और पॉक्सो कानून के तहत केस दर्ज कर लिया है. इस मामले की जांच की जा रही है.

सहायक पुलिस आयुक्त जी संदीप ने बताया कि सिकंदराबाद में सुनीत कुमार नामक एक शख्स अनाथालय चलाता है. इस अनाथालय में लड़के और लड़कियां दोनों रहते हैं. उस पर आरोप है कि उसने एक नाबालिग लड़की को अलग-अलग मौकों पर बार-बार रेप किया. इससे तंग आकर पीड़ित लड़की ने अपने एक रिश्तेदार से आपबीती बताई.

उन्होंने बताया कि सुनीत कुमार के खिलाफ आईपीसी की धारा 376 (रेप) और पोक्सो कानून की संबंधित धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है. बाल अधिकारों के लिए काम करने वाले एक एनजीओ बलाला हक्कुला संघम ने इस घटना की निंदा की है. एनजीओ के मानद अध्यक्ष अच्युता राव ने कहा कि वे लोग बच्चों का यौन शोषण कर रहे हैं.

उधर, दिल्ली की एक अदालत ने एक ट्यूटर को उसकी 15 साल की छात्रा का पीछा करने और उसका यौन उत्पीड़न करने के आरोपों से बरी कर दिया, क्योंकि लड़की ने ट्यूटर की पहचान करने से भी इनकार कर दिया था. अदालत ने आरोपी को आईपीसी की धारा 354डी और पॉक्सो कानून की धारा 12 के तहत अपराधों के आरोपों से बरी कर दिया.

अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश बलवंत राय बंसल ने कहा कि पीड़िता ने अपने बयान में कहा कि यदि उसे आरोपी दिखाया जाता है तो वह पहचान भी नहीं सकती. उसने कहा कि उसे याद नहीं है कि वह व्यक्ति ही उसे ट्यूशन पढ़ाता था. पीड़िता और उसके पिता के बयान से कोई आपत्तिजनक सबूत सामने नहीं आया है. 16 नवंबर, 2013 को केस दर्ज हुआ था.

Back to top button