आतंकवाद को आर्थिक सहयोग देने से जुड़े एक मामले में मीरवाइज उमर की पेशी आज

मीरवाइज़ के घर से एनआईए टीम को एक हाई टेक कम्युनिकेशन सिस्टम हाथ लगा

नई दिल्ली: जम्मू कश्मीर में होने वाली टेरर फंडिंग के केस में पाकिस्तान की तरफ से राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने श्रीनगर के अलग-अलग अलगवादियों के ठिकानों पर छापे मारे जिसमे एक नाम अलगाववादी नेता मीरवाइज उमर फारूक आतंकवाद का भी है. उनके एस कारनामे की वजह से आज उमर एनआईए के सामने आज पेश होंगे.

एनआईए की छापेमारी में मीरवाइज़ के घर से एनआईए टीम को एक हाई टेक कम्युनिकेशन सिस्टम हाथ लगा है जिसके जरिये पाकिस्तान कश्मीर में तबाही का खेल रचने में लगा हुआ था. जानकारी के मुताबिक अलगवादी मीरवाइज उमर के घर से करीब 40 ीट ऊंचा एक टावर मिला है जिसके जरिये मीरवाइज पाकिस्तान के सीधे संपर्क में था. यही नहींं एनआईए के सूत्रों के मुताबिक जो टावर मिला है उसका इस्तेमाल हाईटेक इंटरनेट कम्युनिकेशन के लिए किया जाता था.

इन अलगाववादी नेता मीरवाइज उमर फारूक आतंकवाद के घर से भारी मात्रा मेंआतंकी संगठनों के लेटर हेड समेत पाकिस्तान के वीजा से संबंधित दस्तावेज मिले थे. जिन अलगाववादियों के घर पर एनआईए की टीम ने छापे मारे थे. उनके नाम यासीन मलिक, शब्बीर शाह, मीरवाइज़, अशरफ खान ,अकबर भट्ट और नईम गिलानी है.

अलगाववादी धड़े के सदस्यों ने कहा कि हुर्रियत कॉन्फ्रेंस नेता अब्दुल गनी भट, बिलाल लोन और मौलाना अब्बास अंसारी ने मीरवाइज के पीछे रैली करने का फैसला किया है और उनके साथ एकजुटता दिखाने के लिए एनआईए के मुख्यालय तक उनके साथ जाएंगे.

Back to top button