नाबालिग से दुष्कर्म, गर्भ ठहरने पर कराया गर्भपात, तबीयत बिगड़ी तो हुआ खुलासा

नाबालिग से दुष्कर्म के बाद दोस्त से कहकर बनवाता वीडियो क्लिप

धरसींवा। धरसींवा पुलिस ने एक किशोरी से दुष्कर्म कर और उसका गर्भपात कराने के मामले में आरोपी राघवेंद्र ठाकुर को गिरफ्तार किया है।

मामले में पुलिस की गिरफ्तारी से पहले आरोपी नाबालिग लड़की से छेड़छाड़ के मामले में जमानत पर छूट कर आया था.

जानकारी के मुताबिक, धरसींवा में रहकर मेहनत मजदूरी कर अपने परिवार को पालने वाले दंपती अपने पुत्र के साथ रोजाना सुबह काम पर निकल जाते थे. घर में उनकी नाबालिग बच्ची अकेली रहती थी.

आरोपी राघवेंद्र इसी का फायदा उठाकर उसके घर जाता और नाबालिग से दुष्कर्म करता था। इसके अलावा अपने साथी से उसकी वीडियो क्लिप बनवाता रहा।

वहीं आरोपी ने इस मामले में पीडिता को किसी को कुछ नहीं बताने की बात चेताया थी।

आरोपी ने जब नाबालिग को गर्भ ठहर गया तो धरसींवा के सरकारी अस्पताल में एक नर्स के माध्यम से इंजेक्शन ओर गोलियों के माध्यम से गुपचुप तरीके से गर्भपात करा दिया,

लेकिन कुछ दिन पूर्व जब किशोरी का स्वास्थ्य बिगड़ा तब परिजनों ने युवती को इलाज के लिए अस्पताल ले गए। जहां परिजनों के सामने पूरी सच्चाई आई. इसके बाद परिजन थाने भी पहुंचे. उसी दिन आरोपी को एक अन्य स्कूली छात्रा से छेड़छाड़ के मामले में पुलिस ने धारा 354 के तहत गिरफ्तार किया था.

नाबालिग स्कूली छात्रा से छेड़छाड़ के मामले में पीड़िता के परिजन थाने पहुचे थे, तभी यह पीड़िता भी पहुंची थी,

लेकिन किसी पुलिस कर्मी ने उन्हें भगा दिया और इस तरह इस मामले में कोई कार्यवाही नहीं हो सकी. जब यह घटना मोहल्लेवासियों को ज्ञात हुई तब बीती रात ग्रामीण जन पीड़ित किशोरी के साथ धरसींवा थाना पहुंचे ओर मामले की रिपोर्ट दर्ज कराई.

एएसआई भानुप्रताप यादव ने बताया कि आरोपी राघवेंद्र अभी-अभी एक अन्य किशोरी से छेड़छाड़ के मामले में जमानत पर छूटकर आया है, अब उसे दुष्कर्म के मामले में गिरफ्तार किया गया है.

एएसआई ने बताया कि आरोपी राघवेंद्र के विरुद्ध भारतीय दंड विधान की धारा 376 और बालकों के संरक्षण अधिनियम 2012 की धारा 6 एवं गर्भ का चिकित्सकीय समापन अधिनियम 1971 के तहत मामला दर्ज कर गिरफ्तार किया है, मामले की जांच की जा रही है.

1
Back to top button