मित्तल दंपत्ति हत्याकांड का पुलिस ने किया खुलासा..! बदमाशों ने ऐसे दिया था वारदात को अंजाम..!

जिले के थाना लैलूंगा क्षेत्र अन्तर्गत 22 एवं 23 सितम्बर की मध्य रात्रिन पत्थलगांव रोड़ में निवासरत एलडरमेन एवं व्यववासी मदन मित्तल एवं उनकी पत्नी श्रीमती अंजू मित्तल की निर्मम हत्या की गुत्थी को रायगढ़ पुलिस द्वारा घटना के तीन दिनों के बाद सुलझा लिया गया है ।

हिमालय मुखर्जी ब्यूरो चीफ रायगढ़
रायगढ़। 
जिले के थाना लैलूंगा क्षेत्र अन्तर्गत 22 एवं 23 सितम्बर की मध्य रात्रिन पत्थलगांव रोड़ में निवासरत एलडरमेन एवं व्यववासी मदन मित्तल एवं उनकी पत्नी अंजू मित्तल की निर्मम हत्या की गुत्थी को रायगढ़ पुलिस द्वारा घटना के तीन दिनों के बाद सुलझा लिया गया है । घटना को अंजाम देने वाले 04 नाबालिक बालक व 01 बालिग आरोपी अक्षय प्रधान को रिमांड पर भेजा जा रहा है, घटना को कुल 06 लोगों द्वारा मिलकर अंजाम दिया गया है ।

एक आरोपी अभी भी फरार है। अभी तक पकड़ाए 5 लोगों से चोरी में प्राप्त नकदी से खर्च के बाद शेष करीब 80,000 रूपये नकद बरामद किया गया है। फरार आरोपी जिसके पास से मित्तल दम्पत्ति के मकान से चोरी हुआ बैग व कुछ और नकदी बरामद होने की सम्भावना है, फरार आरोपी की सघन पतासाजी में पुलिस की विशेष टीम लगी हुई है ।

रोशनदान को काटकर घर के अंदर घुसे थे आरोपी-

ज्ञात हो कि दिनांक 22 एवं 23 सितम्बर के दरम्यिानी रात अज्ञात आरोपियों द्वारा चोरी की नियत से लैलूंगा निवासी मदन मित्तल के घर के पीछे का दरवाजा के ऊपर रोशनदान के जाली को काट कर घर अंदर घुसकर मदन कुमार अग्रवाल (55 वर्ष) एवं उनकी पत्नी अंजूदेवी अग्रवाल (54 वर्ष) का गला दबाकर हत्या कर चोरी किये जाने की घटना सामने आई थी।

यहां से रोशनदार काट कर घुसे चोर

घटना की रिपोर्ट मृतक के परिचित प्रदीप कुमार अग्रवाल (49 साल ) निवासी लैलूंगा द्वारा दर्ज कराया जिस पर धारा 457,380,302 IPC पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया । घटना की सूचना मिलते ही एसपी, एडशिनल एसपी, एसडीओपी धरमजयगढ़, धरमजयगढ़ अनुविभाग के सभी थाना, चौकी प्रभारी, थाना प्रभारी चक्रधरनगर, फारेंसिक व सायबर टीम, ट्रेकर डॉग मौके पर पहुंचे और जांच में जुट गये ।

ऐसे पकड़ाए आरोपी–

पुलिस अधीक्षक द्वारा तत्काल कन्ट्रोल रूम को पाइंट देकर सम्पूर्ण जिले की नाकेबंदी कर संदिग्धों की सघन पतासाजी का निर्देश दिया गया । घटना की गंभीरता को लेकर दोपहर सड़क मार्ग से रेंज आईजीपी रतनलाल डांगी भी घटनास्थल पहुंचे । रेंज आईजी द्वारा भी घटनास्थल एवं आसपास क्षेत्र का बारीकी से निरीक्षण कर महत्वपूर्ण दिशा निर्देश जांच टीम को दिया गया तथा मृतको के वारिसानों एवं क्षेत्र के गणमान्य व्यक्तियों से मिलकर अतिशीघ्र आरोपियों के पकड़े जाने का विश्वास दिलाया गया ।

मामला को सुलझाने में जुटा रहा पूरा पुलिस महकमा–

मामले की संजीदगी को देखते हुए एसपी अभिषेक मीना एवं एडशिनल एसपी लखन पटले एवं एसडीओपी धरमजयगढ़ दीपक मिश्रा थाना लैलूंगा में कैम्प किये । कैम्प में एसपी मीना विवेचना टीम को लगातार मार्गदर्शन देते रहे, उनके द्वारा एडिशनल एसपी व एसडीओपी धरमजयगढ़ के नेतृत्व में थाना प्रभारी लैलूंगा, घरघोड़ा, धरमजयगढ़, पूंजीपथरा, चक्रधरनगर के साथ प्रधान आरक्षक एवं आरक्षकों की टीम का गठन कर सभी को अलग-अलग टास्क दिये । पुलिस की टीमें चोरी के साथ आपसी रंजिश व कई पहलुओं को दृष्टिगत रखते हुये जांच में आगे बढ़ रही थी ।

सीसीटीवी फुटेज में दिखे

इसी दरम्यान सीसीटीवी फुटेजों की जांच कर रही साइबर टीम को फुटेज में सांई पेट्रोल पम्प के पास दिनांक 22 सितम्बर के रात्रि 3-4 लड़कों का मूव्मेंट दिखा जो मित्तल निवास के पीछे वाले रोड़ से होकर चखना सेंटर की तरफ गये और कुछ देर बाद उसी पीछे वाले रास्ते पर जो हत्या के घटनास्थल की ओर जाता है, जाते दिखाई दिये, जिसके बाद पुलिस टीम चखना सेंटर के मालिक अर्जुन साहू निवासी रूडेकेला को सम्पर्क कर वहां का फुटेज देखा गया जिसमें 03 लड़के चोरी करते दिखाई दे रहे हैं । चखना सेंटर के मालिक के रिपोर्ट पर

धारा 457,380 IPC कायम किया गया ।

पुलिस टीम तत्काल संदिग्धों की पतासाजी कर तीन नाबालिग बालकों को हिरासत में लिया गया । चखना सेंटर के मालिक अर्जुन साहू ने बताया कि दुकान का एलवेस्टर तोड़कर अज्ञात आरोपियों द्वारा दुकान से गुटखा, सिगरेट, कोल्ड ड्रिंक्स बॉटल व कुछ नकदी चोरी कर ले गये हैं ।

पुलिस टीम द्वारा हिरासत में लिए गये संदिग्ध बालकों से पूछताछ में चखना सेंटर में चोरी की वारदात कबूल किये, मित्तल निवास के पीछे एक स्थान पर ढेर सारे गुटखा के पाऊच रैपर के संबंध में कड़ी पूछताछ करने पर नाबालिगों द्वारा चखना सेंटर में चोरी के साथ निर्माणाधीन मकान के पास के मकान (मित्तल निवास) में दो लोगों की हत्या कर चोरी करना बताये, नाबालिक बालकों सहित 06 लड़कों द्वारा घटना को अंजाम देना बताने पर पुलिस की टीमें अलग-अलग स्थानों पर दबिश देकर आरोपी अक्षय प्रधान व चार नाबालिक बालकों को पुलिस हिरासत में लिया गया, जिसके बाद इस अंधे हत्याकांड का खुलासा हुआ ।

ये बताये आरोपी–

जांच टीम को आरोपियों ने बताया कि 22 सितम्बर के दोपहर गांव में संदीप उर्फ कोंदा, अक्षय प्रधान उर्फ मुंडू और 04 नाबालिग बालक रात को लैलूंगा जाकर चोरी करने का प्लान बनाये । आरोपी अक्षय प्रधान बताया कि सभी अक्सर एक साथ बैठकर गुटखा पाऊच खाते थे, लैलूंगा में सरस्वती मंदिर के पीछे कई बार इकट्ठे होकर गुटखा, पाऊच खाये, आरोपी बताया कि चोरी के प्लान के अनुसार तीन लड़के (सभी नाबालिग) एक साथ तथा तीन लड़के जिसमें अक्षय प्रधान, संदीप उर्फ कोंदा व एक बालक एक साथ लैलूंगा पहुचेंगे और रात में अपने पुराने मिलने के ठिकाने सरस्वती मंदिर के पीछे मिलेंगे।

आरोपियों के प्लान के अनुसार तीन लड़के जो पहले लैलूंगा पहुंचे थे सांई पेट्रोल पम्प के पास चखना दुकान में चोरी किये और वहां से गुटखा, सिगरेट, कोल्ड आदि लेकर सरस्वती मंदिर के पीछे पहुंचे, जहां इन्हें उनके तीन और साथी अक्षय प्रधान, संदीप उर्फ कोंदा व एक बालक मिला । सभी लड़के क्षेत्र को अच्छी तरह से जानते थे, वे आसपास मकानों को झांके और निर्माणाधीन मकान के पास वाले मकान (मदन मित्तल का मकान) में बांस के सहारे ऊपर रोशनदान तक दो लड़के रोशनदान तक पहुंचे

आरपत्ति ब्लेड से काटे रोशनदान

आरीपत्ती (ब्लेड) से रोशनदान को काटकर दो लड़के अंदर घुसे और दरवाजा खोले, तब उनके बाकी साथी भी अंदर प्रवेश किये । एक कमरे की लाइट जल रही थी और एक कमरे के पलंग में एक महिला और पुरूष सोये थे। आलमारी खोलकर बैग निकाले इतने में सोय व्यक्ति जाग गया तो 06 लड़के महिला का तकिया से व पुरूष का गला दबाकर हत्या कर दिये। घटना के बाद बैग में रखे रूपये लेकर दरवाजे के रास्ते भाग निकले ।

वारदात के बाद, मृत अवस्था में पड़े मित्तल दंपत्ति

जाते समय रास्ते में पहले एक स्थान पर सभी रूके । बैग को संदीप उर्फ कोंदा पकड़ा था । संदीप अपने साथियों को क्रमश: 20 हजार, 19 हजार, 18 हजार, 14 हजार एवं एक को 09 हजार रूपये बांटा और बाकी रूपये बैग सहित अपने पास रखकर “बांकी रूपये बाद में बंटवारा कर लेंगे अभी कुछ दिन अलग-अलग जगह छिपे रहो” कहकर वहां से निकला । तब सभी अपने घर पहुंचे और घर में बहानेबाजी कर इधर-उधर फरार हो गये।

पुलिस टीम के हाथ आये 04नाबालिक बालक एंव आरोपी युवक अक्षय प्रधान बताये कि बटवारे रूपये से कपड़े, चप्पल खरीदे हैं, पुलिस टीम द्वारा इनसे खर्च के बाद बचे हुये नकदी 80,000 रूपये, घटना में प्रयुक्त आरीपत्ती (ब्लेड), घटना समय पहने कपड़े बरामद किया गया है। फरार आरोपी के पास बैग व कुछ नकदी होना इनके द्वारा बताया गया है ।

नाबालिक बालक व आरोपी अक्षय प्रधान उर्फ मुंडू पिता राम कुमार प्रधान उम्र 23 वर्ष निवासी थानाक्षेत्र लैलूंगा को हत्या सहित नकबजनी के धारा 457,380,302 IPC में हिरासत में लेकर न्यायालय पेश किया जा रहा है । फरार आरोपी की सरगर्मी से पतासाजी जारी है, जिसके शीघ्र हिरासत में लिये जाने की सम्भावना है । अपचारीगण में कुछेक के पूर्व में मोबाईल व क्षेत्र में छोटी-बड़ी चोरियों का रिकार्ड है, जिनके पूर्व आपराधिक रिकार्ड खंगाले जा रहे हैं।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button