छत्तीसगढ़

पैदल नदी पार कर गांव पहुंचे विधायक, डॉक्टर बन किया इलाज

अम्बिकापुर। छत्तीसगढ़ में इन दिनों हाथियों ने आतंक मचा रखा है। जंगली हाथियों का दल किसी भी समय मौत, तबाही का फरमान लेकर रिहायशी इलाकों की ओर कूच कर देता है। जिससे लोग दहशत में जी रहे हैं। ऐसे ही एक गांव का जायजा लेने के लिए विधायक को पैदल नदी पार करना पड़ा।

प्रीतम राम को पैदल नदी पार करना पड़ा

दरअसल, बलरामपुर-रामानुजगंज जिले के चांदो क्षेत्र स्थित जलबोथा गांव में 12 हाथियों के दल ने 7 ग्रामीणों के घरों को उजाड़ दिया था। वहीं घर में रखे अनाज को भी ये हाथी चट कर गए थे। जिसके बाद क्षेत्र का जायजा लेने के लिए विधायक प्रीतम राम को पैदल नदी पार करना पड़ा।

वहीं उन्होंने पैदल नदी पार करने के बाद गांव का जायजा लिया, इस दौरान उन्होंने एक बच्चे का इलाज भी किया। क्योंकि परिजन उसे खाट पर सुलाकर अस्पताल के जा रहे थे, तभी विधायक ने एक पेड़ के नीचे कैंप लगाकर बच्चे का इलाज किया और उन्होंने ग्रामीणों की समस्याएं भी सुनीं।

बालक के निजी अंग में बीमारी थी। उन्होंने बच्चे को इंजेक्शन लगाया और दवाइयां दीं। इस दौरान ग्रामीणों ने कहा कि बीमार का इलाज कराने उन्हें नदी पार कर चांदो या बलरामपुर जाना पड़ता है। क्योंकि गांव को जोड़ने वाला सेमरखांड़ नाले की सड़क भी बह गई है।

Tags
Back to top button