ग्राम संबलपुर में 7 एकड़ जमीन में मॉडल गौठान सर्व सुविधा से होगा सुसज्जित

मनीष शर्मा:

मुंगेली: जिले के विकासखण्ड मुंगेली के ग्राम संबलपुर में ग्रामीणों एवं महिला स्व सहायता समूहों की महिलाओं की सहभागिता से छत्तीसगढ़ सरकार की महत्वाकांक्षी नरवा, गरूवा, घुरूवा एवं बाड़ी योजना का बेहतर क्रियान्वयन शुरू कर दिया गया है।

गौठान के समीप मोहरंगिया नाला प्रवाहित

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की मंशा के अनुरूप संवर्धन एवं संरक्षण के लिये ग्राम संबलपुर में 7 एकड़ जमीन में मॉडल गौठान का निर्माण कराया जा रहा है। जो सर्वसुविधा से सुसज्जित होगा। गौठान के समीप मोहरंगिया नाला प्रवाहित होती है। पशुओं के लिए पानी उपलब्धता आसान होगा। सोलर पंप भी स्थापित किया गया है।

मुंगेली जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी आरएस नायक ने बताया कि नरवा, गरूवा, घुरूवा के प्रति जागरूकता पैदा करने के लिए शुरू में ग्रामीणों की चौपाल लगाकर सुराजी गांव योजना के संबंध में जानकारी दी गई। चौपाल में लोगों ने सहभागिता निभाने के लिए उत्साह दिखाया।

उन्होने बताया कि ग्राम संबलपुर में लो कास्ट में बास और पैरा से पशुओं के लिए शेड का निर्माण पूर्ण करा लिया गया है। उन्होने बताया कि सीपीटी एवं मुरूम का कार्य पूर्ण हो चुका है। स्व सहायता समूह की महिलाओं द्वारा सीमेंट पोल का निर्माण किया गया है।

गांव में नये 110 नग घुरूवा का निर्माण

गौठान में फेंसिंग का कार्य कराया जा रहा है। नरवा, गरूवा, घुरूवा के सपना को साकार करने के लिए गांव में नये 110 नग घुरूवा का निर्माण कराया जा रहा है। प्रचलित पुराना घुरूवा की संख्या कम थी। ग्राम संबलपुर की आबादी 561 है। इसी तरह पशुओं की संख्या 602 है।

गौठान में मवेशी का आना शुरू हो गया है। ग्राम गौठान समिति की नियमित बैठक हो रही है। गौठान के समीप ही 15 एकड़ में चारागाह का विकास किया जायेगा। चारागाह में सीपीटी का काम करा लिया गया है। वृक्षारोपण हेतु गड्ढ़े खुदाई का काम कराया जा रहा है।

उप संचालक कृषि ने बताया कि नेचूरल खाद को बढ़ावा देने एवं रासायनिक खाद की उपयोगिता कम करने, पशुओं की गोबर से नाडेप और कम्पोस्ट खाद बनाने के लिए महिलाओं को प्रशिक्षण दिया जा रहा है। गौठान निर्माण का कार्य पूर्ण हो जाने से संबलपुर एक रमणीक स्थान के रूप में परिलक्षित होगा।

Back to top button