राष्ट्रीय

कठुआ और उन्‍नाव मामला : मोदी बोले कोई भी अपराधी बचेगा नहीं

नई दिल्ली: कठुआ और उन्नाव में हुई रेप की वारदातों पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चुप्पी तोड़ी है. पीएम मोदी ने ट्वीट कर कहा है कि ऐसी घटनाएं शर्मसार करती हैं और बेटियों को इंसाफ मिलेगा.

पीएमओ इंडिया के ट्वीट के अनुसार पीएम मोदी ने कहा, ‘जिस तरह की घटनाएं हमने बीते दिनों में देखीं हैं, वो सामाजिक न्याय की अवधारणा को चुनौती देती हैं. पिछले 2 दिनों से जो घटनाएं चर्चा में हैं वो निश्चित रूप से किसी भी सभ्य समाज के लिये शर्मनाक हैं. एक समाज के रूप में, एक देश के रूप में हम सब इसके लिए शर्मसार हैं.’

प्रधानमंत्री आगे लिखते हैं, ‘देश के किसी भी राज्य में, किसी भी क्षेत्र में होने वाली ऐसी वारदातें, हमारी मानवीय संवेदनाओं को झकझोर देती हैं. मैं देश को विश्वास दिलाना चाहता हूं कि कोई अपराधी बचेगा नहीं, न्याय होगा और पूरा होगा. हमारे समाज की इस आंतरिक बुराई को खत्म करने का काम, हम सभी को मिलकर करना होगा.’

प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्होंने तो लाल किले से बोलने का साहस किया था कि देर से आने पर लड़की से नहीं, लड़कों से पूछो कि इतनी देर कहां थे क्योंकि जो ऐसे जघन्य अपराध करता है, वह किसी न किसी का बेटा होता है. उन्होंने कहा,

हमें पारिवारिक व्यवस्था, सामाजिक मूल्यों से लेकर न्याय व्यवस्था तक, सभी को इसके लिए मजबूत करना होगा, तभी हम बाबा साहेब के सपनों का भारत बना पाएंगे, न्यू इंडिया बना पाएंगे. उत्तर प्रदेश के उन्नाव बलात्कार मामले में भाजपा के एक विधायक कुलदीप सिंह सेंगर आरोपी हैं.

इससे पहले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी समेत कई विपक्षी नेता पीएम की चुप्पी पर सवाल उठा चुके हैं. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने देश में महिलाओं और बच्चों के खिलाफ हिंसा को लेकर शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि इस मामले में उनकी चुप्पी अस्वीकार्य है और भारत उनके बोलने का इंतजार कर रहा है.

कांग्रेस अध्यक्ष ने एक दिन पहले ही कठुआ और उन्नाव की बलात्कार की घटनाओं के विरोध में देर रात को इंडिया गेट तक मार्च निकाला था. उन्होंने तब कहा था कि प्रधानमंत्री को ‘बेटी बचाओ’ के नारे पर कुछ करके दिखाना होगा. ट्विटर पर प्रधानमंत्री पर सीधा निशाना साधते हुए राहुल ने कहा कि बलात्कार और हत्या के आरोपियों को सरकार क्यों बचा रही है. उन्होंने कहा, श्रीमान प्रधानमंत्री जी, आपकी चुप्पी अस्वीकार्य है.

Tags

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *