मोदी की कैबिनेट vs रत्न कैबिनेट

सभी पर रत्नों का जादू सर चढ़कर बोलता रहा

जब भी भाग्य अपना प्रतिमान बदलने लगता है, तो रोस्टर का विचार सबके सामने आ जाता है। रत्न ग्रहों को ऊर्जा शक्ति देते है और मेहनत को फल के रुप में सामने लाते हैं।आज हमारे आसपास का कोई ऐसा क्षेत्र नहीं जिसमें सफलता पाने के लिए व्यक्ति रत्न शक्ति का उपयोग न करता हो। यहां तक की बड़े बड़े उद्योगपति, व्यापारियों, फैशन जगत, मॉडलिंग, ओलंपिक खिलाड़ी हो या फिर क्रिकेट जगत का जाना माना नाम।

सभी पर रत्नों का जादू सर चढ़कर बोलता रहा है। इसीलिए कहते हैं कि यदि जीवन कठिनाइयों में किसी अनुभवी ज्योतिष की सही सलाह मिल जाए तो जीवन का रुख बदल जाता है। रत्नों में समाहित शक्तियों के चलते ही अधिकांश सफल व्यक्ति रत्न पहनते हैं इनमें प्रमुख राजनेता, प्रशासनिक अधिकारी, न्यायाधीश, मंत्री, राज नायक, अभिनेता आदि की उंगली में देखा जा सकता है। सही अंगुली में सही रत्न पहना जाए तो अति शुभ फल मिलता है। इसके विपरीत गलत रत्न नहीं पहनना चाहिए अन्यथा अशुभ परिणाम नहीं मिलते।

श्री राजनाथ सिंह – गृहमंत्री – अनामिका अंगुली में लाल मूंगा

भारत के वर्तमान गृहमंत्री श्री राजनाथ सिंह की। गृहमंत्री बनने से पूर्व राजनाथ जी भारतीय जनता पार्टी राष्ट्रीय अध्यक्ष थे। ये शुरू से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़े रहे हैं इसी वजह से वे उत्तर प्रदेश महत्वपूर्ण पदों पर विराजमान हुए।

ये 26 मई 2014 से भारत गृहमंत्री पद संभाल रहे है। राजनाथ सिंह उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री भी रह चुकी है। आज राजनाथ सिंह जी भारतीय जनता पार्टी में एक बहुत महत्वपूर्ण पद कौन संभाले हुए है। इनका जन्म राशि वृश्चिक है। जिसका स्वामी मंगल है।

यही वजह है कि राजनाथ सिंह जी ने मंगल रत्न मूंगा धारण किया है। मूंगा रत्न ने उन्हें नेतृत्व शक्ति, उत्साह, ऊर्जा शक्ति और राजनीति के क्षेत्र में विशेष सफलता है। नई जिम्मेदारियों को उठाने की योग्यता और पहल करने का गुण दिया है। मूंगा रत्न ने राजनाथ जी को राजनीति के क्षेत्र में ऊंचाइयों पर स्थापित किया हुआ है।

श्रीमती सुषमा स्वराज – विदेश मंत्री – मध्य उंगली में ब्लू फिल्म

श्रीमती सुषमा स्वराज के तीन दशकों से अधिक का उत्कृष्ट सार्वजनिक जीवन रहा है। इन्हें हरियाणा सरकार में सबसे कम उम्र की कैबिनेट मंत्री तथा दिल्ली की प्रथम महिला मुख्यमंत्री होने का गौरव प्राप्त है। एक प्रतिभाशाली व्यक्ति होने के साथ-साथ उन्होंने देश में संसदीय लोकतंत्र को सुदृढ़ करने में विशिष्ट योगदान प्राप्त है। भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सांसद सुषमा स्वराज को वर्ष 2004 के लिए राष्ट्रपति श्रीमती प्रतिभा पाटिल ने ‘उत्कृष्ट सांसद सम्मान’ से अलंकृत किया था।सुषमा स्वराज कन्या राशि की महिला है। उन्होंने अपने भाग्य को बल देने के लिए नीलम रत्न का सहारा लिया है।
नीलम रत्न रंक को राजा बनाने की क्षमता रखने वाली पत्नी है।

अरुण जेटली – मंत्री वित्त – अनामिका अंगुली में में रेड कोरल

वर्तमान भारतीय राजनीति में जिन नेताओं बात सबसे ज्यादा होती है, उनमें से एक भाजपा के कद्दावर नेता और देश के वित्तमंत्री श्री अरुण जेटली जी का नाम आता है। पेशे से वकील अरुण जेटली की यहां तक पहुंचने
की राजनीतिक यात्रा भीकम दिलचस्प नहीं रही है। अपनी वाक् शक्ति के लिए उन्हें देश के बेहतरीन वकीलों की श्रेणी में रखा जाता है। जेटली 2014 में अमृतसर से लोकसभा चुनाव हार गए थे, इसके बावजूद उनकी योग्यता को देखते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने उन्हें अपने मंत्रिमंडलमें कैबिनेट मिनिस्टर का दर्जा दिया। अरुण जेटली ने लाल मूंगा पहना हुआ है। यह रत्न इन हाथों में देखा जा सकता है। जैसा कि इससे पूर्व कहा जा चुका है कि मूंगा रत्न नेतृत्व के गुण, कमांडिंग पावर और मुश्किल फसलों को सुलझाने की योग्यता देने के साथ साथ, टीम को साथ लेकर चलने की अद्भुत योग्यता इन्हें देख रहे हैं।

नितिन गडकरी – मंत्री सड़क परिवहन और राजमार्ग – रिंग फिंगर में अगेट

नितिन गडकरी एक सफल राजनीतिज्ञ हैं। अजय भाजपा सरकार में सोलहवीं लोकसभा में परिवहन मंत्री हैं। इससे पहले दिसम्बर 2009 में भारतीयजनता पार्टी के नौवें राष्ट्रीय अध्यक्ष चुने गए। बावन वर्ष की आयु में भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष बनने वाले ये इस पार्टी के सबसे कम उम्र के अध्यक्ष हैं। उनका जन्म महाराष्ट्र के नागपुर जिले में एक ब्राह्मण परिवार में हुआ। ई कॉमर्स में स्नातकोत्तर हैं इसके अलावा उन्होंने कानून तथा बिजनेस मैनेजमेंट की पढ़ाई भी की है।साथ ही एक सफल उद्योगपति भी हैं। उन्होंने सफलता पाने के लिए अनामिका अंगुलीमेंअगेट पहना हुआ है।यही इनकी सफलता का छुपा हुआ राज है।

डी वी सदानंद गौड़ा – मंत्री रेलवे – अनामिका अंगूली मे नवरत्न रिंग

डीवी सदानंद गौड़ा जी आज एक सफल भारतीय राजनीतिज्ञ केरुप मे जाने जाते हैं जो कर्नाटक के 20 वें मुख्यमंत्री थे और वर्तमान में भारत सरकार में सांख्यिकी और कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्री हैं। वह पहले कानून और न्याय मंत्री के रूप में कार्यरत थे जो 5 जुलाई 2016 को मंत्रिमंडल में फेरबदल में कानून और न्याय मंत्रालय में स्थानांतरित हुए।साथ ही सदानंद जी 16 वीं लोकसभा के सदस्य हैं जो बैंगलोर उत्तर निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हैं। सदानंद जी अपने भाग्य रत्न के रूप में नवरत्न अंगूठी पहनते हैं। नवरत्न अंगूठी की यह विशेषता मानी जाती है कि यह सभी नौ ग्रहों की अशुभता को समाप्तकर नवरत्नों की शुभता अपना धारक को प्रदान करती हैं।इस अंगूठी के चमत्कारी प्रभाव से इनके नौ ग्रहों का बल इन्हें प्राप्तहो रहा है और उनका भाग्य कोहिनूर की भांति राजनीति के आकाश में जगमगा रहा है।

सुश्री उमा भारती – मंत्री जल संसाधन – मध्यमा अंगूली में ब्लू नीलम

उमा भारती वर्तमान में भारत सरकार में जल संसाधन, नदी विकास और गंगा सफाई मंत्री हैं।उमा को पहचानते-तर्रार नेता में होती है। गुस्सा उसकी नाक पर सवार रहता है। जब वह बोलना शुरू करते हैं तो लोग उसे मंत्रमुग्ध होकर उनको मानते हैं कि जैसे कोई कथावाचक कथा सुना रहे हो। उमा भारती उतार-चढ़ाव भरे ईस पर हर कोई रूबरू होना चाहता है।ये एक बार मध्यप्रदेश राज्य कीमुख्यमंत्री भी रह चुकी हैं। उमाश्री भारती ने साध्वी ऋतंभरा के साथ मिलकर ‘राम जन्मभूमि आन्दोलन’में प्रमुख भूमिका निभाई। धर्म, अध्यात्म और राजनीति जैसे अनेक क्षेत्रों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाली उमा भारती नेअपनी मध्यमा अंगुली में नीलम पहना हुआ है। नीलम रत्न की अलौकिक शक्तिने उन्हें बहुमुखी प्रतिभा की स्वामिनी बनाया है।

गोपीनाथ मुंडे – भूतपूर्व ग्रामीण विकास मंत्री – तर्जनी अंगुली में एक पीला नीलम

महाराष्ट्र की राजनीति में गोपीनाथ का नाम गर्व से लिया जाता है। इनका पूरा नाम गोपीनाथ पांडुरंग मुंडे था। 3 जून 2014 को उनका एक सड़कदुर्घटना में मृत्यु हो गई। गोपीनाथ जी ने अपनी पहचान जमीन से जुड़े एक कार्यकर्ता के तौर पर बनाई। यह महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री भी रह चुके थे। सन 2014 में ये मोदी मंत्रिमंडल में शामिल हुए थे। लेकिन दुर्भाग्य से कुछ दिनों बाद दिल्ली में एक सड़क दुर्घटना शिकार हुए और बच नहीं पाए जिस कारण उनकी मौत हो गयी। अपने राजनैतिक जीवन को बूस्ट करने के लिए इन्होंने पीला नीलम रत्न धारण किया हुआ था। नीलम ने उन्हें राजनीति में सम्मानजनक स्थान तो दिया परन्तु उन्हें अकाल दुर्घटना से नहीं बचा पाए।

रामविलास पासवान – मंत्री उपभोक्ता मामले- पीला नीलम और डायमंड

नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में राजग सरकार में कैबिनेट मंत्री के रूप में आज शपथ लेने वाले रामविलास पासवान पिछले तीन दशक से हर तरह की सरकार में केंद्रीय मंत्रिमंडल में रहे। ये वर्तमान दलित राजनीति के प्रमुख नेताओं में से एक हैं। साथ ही लोक जनशक्ति पार्टी के अध्यक्ष एवं राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन की सरकार में केंद्रीय मंत्री भी हैं। ये सोलहवीं लोकसभा में बिहार के हाजीपुर लोकसभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हैं और वर्तमान उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्री हैं। पासवान लोक जनशक्ति पार्टी के अध्यक्ष भी हैं, आठ बार लोकसभा सदस्य और पूर्व राज्यसभा सांसद हैं।2014 की भारतीय लोकसभा चुनाव के बाद हाजीपुर विधानसभा चुनाव बाद 16 वीं लोकसभा सदस्य चुने गए हैं। रामविलास पासवान ने सफलता, उन्नति और ऐश्वर्यपूर्ण जीवन पाने के लिए नीलम और हीरा रत्न धारण किया हुआ है।इन दोनों रत्नों जादू इन्हें आज तीन दशकों के बाद भी सफलता की ऊंचाईयों पर बनाए हुए हैं।

कलराज मिश्रा – भूत पूर्व सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम मंत्री – तर्जनी अंगूली में पीला नीलम

कलराज मिश्र प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भाजपा की अगुवाई वाली एनडीए सरकार में सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों के भारतीय केंद्रीय कैबिनेट मंत्री थे। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) से संबद्ध होने के नाते, वह वर्तमान में उत्तर प्रदेश के देवरिया विधानसभा क्षेत्रसे संसद का सदस्य है।मिश्रा उत्तर प्रदेश एक ब्राह्मण नेता हैं। अपने प्रयासों और संगठनात्मक क्षमता से ये एक अच्छा और सक्षम संगठन बनाने में सक्षम रहे। इसके अलावा कलराज मिश्र जी 26 मई 2014 से सितंबर 2017 तक सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम मंत्री थे।उन्होंने अपनी तर्जनी अंगुली में शीघ्र फल देने वाले नीलम रत्न धारण किया हुआ है। नीलम रत्न के कलराज मिश्र जी के जीवन को एकदम से बदलकर रख दिया है।

रविशंकर प्रसाद – मंत्री संचार और सूचना प्रौद्योगिकी – पीला नीला और लाल कोरल

भाजपा के स्पष्ट वक्ता के तौर पर मशहूर और टेलीविजन की चर्चा ओं में अकसर दिखाई देने वाले रविशंकर प्रसाद अनुभव के पिटारे के साथ केन्द्रीय मंत्रिमंडल में वापस लौटे हैं।अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में
वह चार वर्ष तक विभिन्न विभागों के प्रभारी रहे। रविशंकर प्रसाद ने अपना राजनीतिक जीवन भले ही लालू प्रसाद के नेतृत्व में पटना विश्वविद्यालय के तेज तर्रार छात्र नेता के तौर पर शुरू किया, लेकिन उनका भाजपा में आना बहुत स्वाभाविक रहा क्योंकि उनके वकील पिता ठाकुर प्रसाद जनसंघ के संस्थापक सदस्य में से एक थे। वर्तमान में वे भारतीय संसद के ऊपरी सदन में बिहार राज्य का प्रतिनिधित्व करते हैं।
श्री रविशंकर प्रसाद जी रत्नों की अलौकिकमहिमा में आस्था और विश्वास रखते हैं। इसी विश्वास के साथ इन्होंने लाल मूंगा और पीला नीलम रत्न पहना हुआ है।इन्हीं रत्नों ने शंकर प्रसादजी के जीवन को शोहरत और सफलता प्रदान की हैं।

हरसिमरत कौर – बादल फूड प्रोसेसिंग इंडस्ट्री – छोटी उंगली में मोती पहनती हैं

हरसिमरत ने भारतीय राजनीतिक कैरियर के 2009 के भारतीय आम चुनाव साथ शुरू किया था। आज ये हरसिमरत कौर बादल भारत की एक राजनीतिज्ञ हैं और वर्तमान में भारत सरकार के अंतर्गत खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्री हैं। वेभटिंडा लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र से वर्ष 2009 से लगातार 15वीं और 16वीं लोकसभा की सांसद हैं। शिरोमणि अकाली दल के सदस्य और पंजाब के उपमुख्यमंत्री सुखबीर सिंह बादल की पत्नी है। 2014 में बठिंडा से सांसद रूप में फिर से निर्वाचित हुए हैं, जिसमें भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस-पंजाब की पंजाब के संयुक्त उम्मीदवार मनप्रीत सिंह बादल को हराया गया था।इसके लिए, वह केंद्रीय खाद्य मंत्री के रूप में मोदी सरकार में नियुक्त किया गया है।नवरत्नों में से उन्होंने अपने लिए मोती रत्न का चयन किया है।

राधामोहन सिंह – मंत्री-कृषि सूचकांक – मध्यमा अंगुली में पीला नीलम

श्री राधा मोहन सिंह जी भारतीय जनता पार्टी के राजनीतिज्ञ एवं भारत के वर्तमान केन्द्रीय कृषि केंद्रीय मंत्री हैं।राधामोहन सिंह नौंवी, ग्यारहवीं, तेरहवीं, पंद्रहवीं और सोलहवीं लोकसभा के सांसद निर्वाचित हुए हैं। ये पूर्वी चंपारण, बिहार से लोकसभा सांसद हैं। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद, जनसंघ व राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के स्वयंसेवक रहे श्री सिंह, सार्वजनिक जीवन में संगठन के प्रति समर्पण के लिए जाने जाते हैं।
इन्हें नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केन्द्रीय सरकार कैबिनेट मंत्री के रूप में शामिल किया गया था और वर्तमान में वह भारत के कृषि मंत्री का पोर्टफोलियो रखते हैं। माननीय मंत्री जी ने भाग्योदय के लिए पीला नीलम रत्न पहना है। यह रत्न उन्हें मोदी के मंत्री मंडल में स्थान दिलाया है।

डॉ हर्षवर्धन – मंत्रियों स्वास्थ्य और परिवार कल्याण – लहसुनिया रत्न

डॉ॰ हर्षवर्धन भारतीय राजनेता हैं जो देश के दो प्रमुख राजनीतिक दलों में से एक भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सदस्य हैं। ये कृष्णा नगर विधानसभा क्षेत्र से दिल्ली विधानसभा सदस्य हैं। दिल्ली में भारतीय जनता पार्टी की सरकार (1993-1998) के दौरान उन्होंने स्वास्थ्य मंत्री, कानून मंत्री और शिक्षा मंत्री सहित राज्य मंत्रिमंडल मेंविभिन्न पदों पर कार्य किया।हर्षवर्धन दिल्ली विधानसभा चुनाव के इतिहास में कभी नहीं हारे हैं। हर्षवर्धन ने लहसुनिया रत्न पहनकर भाग्य को प्रबल किया है। लहसुनिया रत्न संघर्ष में सफलता देने के लिए जाना जाता है।

राजनेताओं की किस्मत की चाबी रत्न

मुलायम सिंह यादव – पुखराज का चमत्कार

समाजवादी पार्टी कर्ता-धर्ता है मुलायम सिंह यादव जी। मुलायम सिंह ने एक भारतीय राजनेता हैं, ये उत्तर प्रदेश के तीन बार मुख्यमंत्री व केन्द्र सरकार में एक बार रक्षा मंत्री रह चुके हैं।वर्तमान मेंयह समाजवादी पार्टी के मार्गदर्शक हैं। यादव जी अपनी तर्जनी अंगुली में पुखराज पहनते हैं। पुखराज रत्न ने उन्हें राजनीति क्षेत्रमें सफलता और मुकाम दोनों दिया है। साथ ही यह रत्नखुशहाली, बुद्धि और भाग्य का प्रतीक रत्न भी है।इस रत्न के प्रभाव से आज मुलायम सिंह यादव जी का नाम जाना जाता रहा है।

नवजोत सिंह सिद्धू – माणिक और पुखराज ने बनाया उन्हें धुरंधर

नवजोत सिंह सिद्धू भारतीय क्रिकेट के भूतपूर्व खिलाड़ी है जिन्होंने क्रिकेट में भले ही बल्लेबाजी का जलवा दिखाया है लेकिन निजी जीवन में वो ऑलराउंडर है। वर्तमान में नवजोत सिंह टीवी शो,
राजनीति और क्रिकेट मैच में बिहार जगह दिखाई देते हैं। नवजोत सिंह की असली ऑलराउंडर कहना गलत नहीं होगा क्योंकि ये कमेंट भी कर लेते हैं तो शायरियां भी कर लेते है तो राजनीति में भी सक्रिय है।नवजोत सिंह ने अपनी वाणी दम पर पूरे भारतवर्षमें अपना एक अलग मुकाम हासिल कर लिया है। इन्हें धुरंधर बनानेमे इन्हें माणिक्य और पुखराज रत्न का महत्वपूर्ण योगदान रहा है।

प्रकाश सिंह बादल और सुखबीर सिंह बादल – ओपल

पंजाब के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह और उनके दोनों बच्चे ओपल रत्न पहनते हैं। ओपल शुक्र या शुक्र ग्रह का प्रतीक रत्न है। यह रत्न बहुत सुंदर रत्नों की श्रेणी में आता है ।इसका असर तुरंत दिखता है।अपने पहनने वाले को ओपन शक्ति, ऐशो-आराम और नाम देता है। साथ ही दुश्मनों को भी दूर रखता है। यह बता देना सही रहेगा कि आज तक प्रकाश सिंह बादल 5 बार पंजाब मुख्यमंत्री बन चुके हैं। इस रत्न को उन्हें सत्ता में सफलता, सम्मान और ऐशो आराम सभी कुछ दिया है। यहां तक की कई बार इन कुर्सी को भी जाने से बचाता है।

आचार्य रेखा कल्पदेव, ज्योतिष सलाहकार : 8178677715
Gmail : rekhakalpdev@gmail.com

Back to top button