मोहला -मानपुर में कांग्रेस का गढ़ ढहाने भाजपा को करनी होगी मेहनत

अनुसूचित जनजाति के लिए सुरक्षित मोहला-मानपुर विधानसभा क्षेत्र भी शामिल

रायपुर। साल 2003 के परिसीमन में अंबागढ़ चौकी विधानसभा क्षेत्र को विलोपित कर अस्तित्व में आई मोहला -मानपुर विधानसभा सीट पर हुए पिछले दो चुनाव में कांग्रेस को जीत मिली है। वर्तमान में यहां से कांग्रेस की तेजकुंवर नेताम विधायक चुनी गई हैं।

छत्तीसगढ़ बनने के बाद जिन सीटों पर भाजपा अपना खाता नहीं खोल पाई है उनमें अनुसूचित जनजाति के लिए सुरक्षित मोहला-मानपुर विधानसभा क्षेत्र भी शामिल है।

साल 2008 के विधानसभा चुनाव में इस सीट पर कांग्रेस ने शिवराज सिंह उसरे को अपना प्रत्याशी बनाया था। वहीं भाजपा की ओर से दरबार सिंह मंडावी मैदान में थे।

इस चुनाव में कांग्रेस के शिवराज सिंह उसरे ने बहुकोणीय मुकाबले में भाजपा के दरबार सिंह मंडावी को 6441 मतों से हराया। शिवराज सिंह उसरे को 43890 मत मिले वहीं दरबार सिंह मंडावी को 37449 मतों से संतोष करना पड़ा।

निर्दलीय शिवचंद अमरिया 4.90 वोट प्रतिशत के साथ 4615 मत प्राप्त कर तीसरे व बसपा के प्रमोद केरकेट्टा 3.21 प्रतिशत वोट शेयर के साथ 3024 मत प्राप्त कर चौथे स्थान पर रही। सपा के तुलाराम गावड़े 2.50 प्रतिशत वोट शेयर के साथ 2355 मत पाकर पांचवें स्थान पर रहे।

साल 2013 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने अपना उम्मीदवार बदलते हुए तेजकुंवर नेताम को अपना उम्मीदवार बनाया वहीं भाजपा ने भोजेश शाह मंडावी को बहुकोणीय मुकाबले में 956 मतों से हराया।

तेजकुंवर नेताम को 42648 मत मिले वहीं भोजेश शाह मंडावी को 41692 मत मिले। निर्दलीय तातूराम भूआर्य 9.23 प्रतिशत वोट शेयर के साथ 10701 मत प्राप्त कर तीसरे स्थान पर रहे।

नोट चौथे व बसपा की खगेश ठाकुर 4.05 प्रतिशत वोट शेयर के साथ 4700 मत प्राप्त कर पांचवें स्थान पर रही। कयास लगाए जा रहे है कि आने वाले विधानसभा चुनाव कांग्रेस की ओर से तेजकुंवर नेताम दोबारा मैदान में हो सकती हैं।

वहीं भाजपा कांग्रेस के गढ़ में सेध लगाने नए चेहरे को मौका दे सकती है। इस बार जोगी-बसपा-सीपीआई गठबंधन और आम आदमी पार्टी भी मैदान में है। ऐसे हालत में बहुकोणीय मुकाबले के आसार हैं।

Back to top button