भारतीय क्रिकेट टीम के लिए भाग्यशाली साबित हुआ था नेवला, सचिन तेंदुलकर भी करने लगे थे तब उसका इंतजार

सचिन तेंदुलकर क्रिकेट के भगवान कहे जाते हैं। टीम में जब खेलते थे, तो लकी माने जाते थे। जबरदस्त बैटिंग कर रन जो जुटाते थे। मगर एक मैच में वह किसी और को लकी मान बैठे थे। वह कोई इंसान नहीं था। बल्कि एक सामान्य सा नेवला था।

सचिन के मुताबिक तब वह टीम के लिए लकी साबित हुआ था। सचिन जब गेंदबाजी करने पहुंचे थे, तो वह उसका इंतजार तक करने लगे थे। उन्हीं से जानिए क्या था पूरा किस्सा।

पूर्व क्रिकेटर यह रोचक किस्सा एक इंटरव्यू में सुनाया था। यह बात साल 1993 की है। टीम इंडिया दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेल रही थी। कोलकाता के ईडन गार्डन्स में। यह हीरो कप का सेमीफाइनल मैच था। सचिन के मुताबिक, उन्हें नहीं मालूम कि कितनों ने इस बात पर गौर किया। चूंकि वह पहला डे-नाइट मैच था। दूसरे हाफ में बार-बार एक नेवला आ रहा था। वह जब-जब आता, हमें विकेट मिलता। फिर रन बनने लगते और फिर नेवला आता, तो हमें विकेट हासिल हो जाता।

टीम की कमान मोहम्मद अजहरुद्दीन के हाथों में थी। आखिरी ओवर में उन्होंने सचिन को गेंदबाजी सौंपी थी। द.अफ्रीका को जीतने के लिए छह रन चाहिए थे। सचिन उस मैच में बल्ले से कुछ खास कमाल नहीं दिखा पाए थे। सचिन ने कहा था कि वह जब गेंदबाजी के लिए पहुंचे थे, तो वह उसी नेवले का इंतजार कर रहा थे। तेंदुलकर ने तीन गेंदें फेंकी थीं, जिसके बाद एलन डोनाल्ड रन आउट हुए थे। आखिरी गेंद पर ब्रायन मैकमिलन चौका न लगा पाए। और इस तरह से टीम इंडिया ने यह मैच अपने नाम किया था।

1
Back to top button