कोर्ट का एेतिहासिक फैसला-कैंसर पीड़ित माली को 20 अरब से ज्यादा मुआवजा देने के आदेश

सैन फ्रांसिस्कोः सैन फ्रांसिस्को की एक अदालत ने एेतिहासिक फैसला सुनाते हुए बीज और कीटनाशक कंपनी मोन्सेंटो को एक माली को 29 करोड़ डॉलर (करीब 20 अरब 3 करोड़ 75 लाख 50 हजार रुपए) चुकाने का आदेश दिया है। कैंसर से मर रहे माली के हक में फैसला सुनाते हुए कोर्ट ने कहा है कि कंपनी ने माली को इस बात की चेतावनी नहीं दी थी कि उनके खरपतवार नाशक से कैंसर भी हो सकता है। कोर्ट ने माना कि डिवेन जॉनसन नाम के माली के इस केस में कंपनी का व्यवहार द्वेषपूर्ण था।

कोर्ट ने यह भी कहा कि उनकी खरपतवार नाशक दवा राउंडअप और रेंजरप्रो ने जॉनसन की इस खतरनाक बीमारी में भूमिका रही। 8 हफ्तों तक चले ट्रायल के बाद कोर्ट ने मोन्सेंटो पर 25 करोड़ डॉलर का दंडात्मक हर्जाना लगाया। इसके साथ क्षतिपूर्ति मुआवजा (3 करोड़ 80 लाख डॉलर) और अन्य चीजें जोड़ने के बाद यह रकम 29 करोड़ डॉलर के करीब आ गई है। यानी माली को 3 करोड़ 80 लाख डॉलर का मुआवजा मिलेगा।

कैलिफॉर्निया के माली जॉनसन के शरीर पर 2014 में एक लाल चकत्ता हुआ। पता चला कि यह एक नॉन हॉजकिन लिम्फोमा कैंसर है। यह कैंसर शरीर के लाल रक्त कणों पर असर डालता है। जॉनसन ने कैलिफॉर्निया के एक स्कूल में काम करने के दौरान मोन्सेंटो के केमिकल का काफी इस्तेमाल किया था। मुकदमा जीतने के बाद 46 साल के जॉनसन ने कहा कि वह जूरी के सारे सदस्यों का तहे दिल से शुक्रिया अदा करना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि उनकी लड़ाई का उद्देश्य काफी बड़ा है और उन्हें उम्मीद है कि अब इसपर सबकी नजर जाएगी। इस मामले में फैसला सुनाने के दौरान जॉनसन अपनी भावनाओं पर काबू नहीं रख पाए और रो पड़े।

Tags
Back to top button