छत्तीसगढ़ में मॉनसून फिर एक्टिव, बंगाल की खाड़ी में बने सिस्टम से जोरदार बारिश का अनुमान

रायपुर. मौसम विभाग (IMD) के अनुसार, राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली और उत्तर-पश्चिम भारत के आसपास के क्षेत्रों में 29 अगस्त से बारिश (Rain) होने का अनुमान है. दरअसल, मॉनसून के कम दबाव के क्षेत्र के हिमालय की तलहटी से मैदानी इलाकों की ओर बढ़ने की उम्मीद है. एक निम्न दाब का क्षेत्र उत्तर-पश्चिम बंगाल की खाड़ी और उससे लगे पश्चिम-मध्य बंगाल की खाड़ी, दक्षिण ओडिशा तट, उत्तरी आंध्र प्रदेश तट के ऊपर स्थित है, इसके साथ ऊपरी हवा काचक्रीय चक्रवाती घेरा 5.8 किलोमीटर ऊंचाई तक स्थित है। मानसून द्रोणी का थोड़ा प्रबल होकर फिरोजपुर, दिल्ली, ग्वालियर, सीधी, झाड़सुगुड़ा, निम्न दाब का केंद्र होते हुए पूर्व मध्य बंगाल की खाड़ी तक 0.9 किलोमीटर ऊंचाई पर स्थित है।

एक पूर्व पश्चिम शियर जोन 15 डिग्री उत्तर में 3.1 किलोमीटर से 7.6 किलोमीटर ऊंचाई पर स्थित है। छत्तीसगढ़ प्रदेश में कल दिनांक 29 अगस्त को अधिकांश स्थानों पर हल्की से मध्यम वर्षा होने अथवा गरज चमक के साथ छींटे पड़ने की संभावना है। प्रदेश में एक-दो स्थानों पर गरज चमक के साथ आकाशी बिजली गिरने तथा भारी वर्षा होने की भी संभावना है। प्रदेश में अधिकतम तापमान में गिरावट संभावित है।

प्रदेश में भारी वर्षा का क्षेत्र मुख्यतः दक्षिण छत्तीसगढ़ रहने की संभावना है

Weather Forecast Today: बंगाल की उत्तर-पश्चिमी खाड़ी पर बने चक्रवाती परिसंचरण (Cyclonic Circulation) के प्रभाव से उत्तरी आंध्र प्रदेश और दक्षिण ओडिशा तट पर एक कम दबाव का क्षेत्र बन गया है. जिससे एक बार फिर मॉनसून के एक्टिव होने से बारिश की गतिविधियां बढ़ने की संभावना है.

मौसम पूर्वानुमान एजेंसी स्काईमेट के मुताबिक मॉनसून की ट्रफ रेखा अमृतसर, अंबाला, दिल्ली, ग्वालियर, सतना और पश्चिम मध्य बंगाल की खाड़ी पर बने निम्न दबाव के मध्य से होते हुए पूर्व मध्य बंगाल की खाड़ी की ओर जा रही है. जबकि कर्नाटक तट से केरल तट तक ट्रफ रेखा फैली हुई है. मौसम विभाग के मुताबिक आंध्र प्रदेश और रायसीना में अगले 24 घंटे में भारी बारिश (Heavy Rainfall) होने की संभावना है.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button