सोनीपत में घंटों खड़े रहे दूल्हे, दिल्ली में दुल्हन दिलाने वाली बस नहीं आई

मुख्य आरोपी महिला अनीता फरार है

सोनीपत में घंटों खड़े रहे दूल्हे, दिल्ली में दुल्हन दिलाने वाली बस नहीं आई

शादी कराने का दावा करने वाली एक महिला के झांसे में दिल्ली और हरियाणा के करीब 100 लड़के आ गए। इन्होंने पत्नी पाने की चाहत में उस महिला को 45-45 हजार रुपये भी दे दिए थे। महिला ने सोनीपत जिले के खरखौदा इलाके के 100 लड़कों को बुधवार को एक जगह इकट्ठा होकर बस का इंतजार करने को कहा था। महिला ने लड़कों से कहा था कि बस में उन्हें बैठाकर दिल्ली लाया जाएगा। जहां एक आश्रम में खूब सारी लड़कियां होंगी, जिनमें से लड़के अपनी दुल्हन चुन सकते हैं। लेकिन हुआ यह कि सभी 20 लड़के शेरवानी पहनकर सड़क किनारे 5 घंटे तक खड़े रहे और कोई बस नहीं आई। आखिरकार सभी खरखौदा पुलिस स्टेशन गए और अपने साथ हुई धोखाधड़ी की शिकायत दर्ज कराई।

खरखौदा थाने के एसएचओ वजीर सिंह ने एनबीटी को फोन पर बताया, ‘बुधवार को ऐसा मामला दर्ज हुआ है। लेकिन मुख्य आरोपी महिला अनीता फरार है। हालांकि उसके दो साथी 45 वर्षीय सुशीला और 30 साल के मोनू को गिरफ्तार किया गया है। पता चला है कि अनीता दिल्ली के नरेला की रहने वाली है।’ कुंवारों की शादी कराने का काम अनीता करीब चार महीने से कर रही थी। खरखौदा में रहने वाले सुशीला और मोनू उसके एजेंट थे। ये दोनों ऐसे लड़कों की खोजते थे जिनकी शादी नहीं हो पा रही थी। फिर शादी कराने का वादा कर लड़कों से 45-45 हजार रुपये लिए जाते थे। दिल्ली, जींद, रोहतक और सोनीपत के करीब 100 लड़कों से पैसे लिए गए थे।

पुलिस ने बताया, ‘अनीता ने ऐसे ही 20 लड़कों से बुधवार को खरखौदा इलाके में स्थित गर्ल्स कॉलेज के पास इकट्ठा होकर एक बस का इंतजार करने को कहा था। लेकिन बस नहीं आई। जब लड़कों ने अनीता को फोन मिलाया तो उसने मोबाइल स्विच ऑफ कर लिया। 5 घंटे बाद लड़कों ने पुलिस में शिकायत की।’ आरोपी महिला ने लड़कों को दिल्ली के एक आश्रम में ले जाने की बात कही थी। महिला का दावा था कि उस आश्रम में कई कुंवारी लड़कियां भी लाई जाएंगी। बताया जा रहा है कि शायद लड़कों की शादी करवा दी जाती। लेकिन दिल्ली में बाबा वीरेंद्र देव दीक्षित के आश्रमों पर चल रहे छापों की वजह से लड़कों को दिल्ली नहीं लाया गया। खतरा था कि अगर उस आश्रम में लड़कियों को लाया जाता तो पुलिस आ सकती थी।

advt
Back to top button