राज्‍य की मौजूदा जेडीएस-कांग्रेस सरकार से पार्टी के 20 से अधिक विधायक नाखुश

मौजूदा समय में असंगत करार दिया

बेंगलुरू: कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने पार्टी के कुछ नेताओं द्वारा कांग्रेस विधायक दल के नेता सिद्धरमैया के लिए एक बार फिर मुख्यमंत्री बनाने के पक्ष में बयान दिए जाने को भी मौजूदा समय में ‘असंगत’ करार दिया. उन्होंने कहा कि उम्मीदवार चुनने के लिए पार्टी में एक प्रणाली है.

कर्नाटक के पूर्व मुख्‍यमंत्री और बीजेपी नेता बीएस येदियुरप्‍पा ने कहा कि राज्‍य की मौजूदा जेडीएस-कांग्रेस सरकार से कांग्रेस के 20 से अधिक विधायक खुश नहीं हैं. वे किसी भी वक्‍त कोई भी निर्णय ले सकते हैं. इंतजार कीजिए, देखिए क्‍या होता है?

कोई चुनाव के लिए तैयार नहीं

परमेश्वर ने कहा कि कुछ अवांछित लोग चुनाव में जाने के बारे में खबरें फैला रहे हैं. कोई चुनाव के लिए तैयार नहीं है. कलबुर्गी में पत्रकारों से बात करते हुए उन्होंने कहा कि हमने पांच साल तक सरकार चलाने के इरादे से एक गठबंधन बनाया है और हम कार्यकाल पूरा करेंगे.

इस बीच कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धरमैया ने राज्य के मुख्यमंत्री में बदलाव की किसी भी संभावना से बुधवार को इनकार किया और कहा कि कई कांग्रेस नेता उन्हें ‘‘प्रेमवश’’ मुख्यमंत्री पद पर देखना चाहते हैं.

सिद्धरमैया ने हुबली में संवाददाताओं से कहा, ‘‘वे (कांग्रेसजन) अपनी राय व्यक्त कर रहे हैं लेकिन क्या यह अब संभव है? कुर्सी अब खाली नहीं है और (जदएस नेता)कुमारस्वामी मुख्यमंत्री हैं. मैं कैसे मुख्यमंत्री बन सकता हूं? उन्होंने कहा, ‘‘कुछ मेरे प्रति अपने प्रेम की वजह से ऐसा कह रहे हैं. क्या ऐसा कहना गलत है?

कांग्रेस के एक वर्ग द्वारा सिद्धरमैया को एक बार फिर मुख्यमंत्री बनाने पर जोर डाले जाने के बीच उपमुख्यमंत्री जी परमेश्वर और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष दिनेश गुंडू राव ने बुधवार को कुमारस्वामी के साथ मुलाकात की थी, जिस दौरान उन्होंने इस घटनाक्रम पर कथित रूप से चर्चा की.

कांग्रेस सूत्रों के अनुसार कुमारस्वामी ने उनसे (कांग्रेस नेताओं से) पार्टी के नेताओं को मुख्यमंत्री के पद को लकर सार्वजनिक रूप से बयान देने से रोकने को कहा क्योंकि इससे सरकार और उनके लिए असहज स्थिति पैदा हो रही है.

विधानसभा में संख्याबल की कमी का हवाला

आहत जनता दल सेकुलर (जदएस) ने विधानसभा में संख्याबल की कमी का हवाला देते हुए सिद्धरमैया के तत्काल मुख्यमंत्री बनने की किसी भी संभावना से इनकार किया. कांग्रेस के नेताओं की मांग को अतार्किक करार देते हुए जदएस के प्रदेश अध्यक्ष एच विश्वनाथ ने कहा कि जब मुख्यमंत्री एच डी कुमारस्वामी अपनी जिम्मेदारियां अच्छी तरह निभा रहे हैं तब सिद्धरमैया के मुख्मयंत्री बनने का सवाल ही नहीं उठता.

23 मई को लोकसभा चुनाव का परिणाम आने के बाद कुछ बदलाव

जब सिद्धरमैया से पूछा गया कि 23 मई को लोकसभा चुनाव का परिणाम आने के बाद कुछ बदलाव होगा तो कांग्रेस विधायक दल के नेता ने कहा,‘‘किसी परिवर्तन का कोई संकेत नहीं है. क्यों कोई परिवर्तन होगा? कुमारस्वामी गठबंधन सरकार के मुख्यमंत्री हैं.

जब उनसे पूछा गया कि क्या जद एस मुख्यमंत्री पद कांग्रेस को दे देगी तो सिद्धरमैया ने कहा कि वह इस तरह की अटकलों का उत्तर नहीं दे सकते. कर्नाटक के गृहमंत्री एम बी पाटिल ने मंगलवार को सिद्धरमैया को ‘‘बतौर मुख्यमंत्री दोबारा’’ देखने की बात कही थी लेकिन बाद में स्पष्ट किया कि मौजूदा गठबंधन सरकार अपना कार्यकाल पूरा करेगी.

Back to top button