कागजों पर चल रहे मदर टेरेसा नर्सिंग स्कूल का किया गया औचक निरीक्षण

प्रधान सचिव ने सख्त कार्रवाई के दिए निर्देश, संस्थान की मान्यता रद्द करने के लिए जारी किया गया कारण बताओ नोटिस

पटना : स्वास्थ्य विभाग बिहार सरकार द्वारा राज्य में संचालित नर्सिंग संस्थानों में गुणवत्ता सुधार के लिए निरंतर प्रयास किये जा रहे हैं. साथ ही इंडियन नर्सिंग काउंसिल के मानकों के अनुरूप नहीं पाए जाने पर संस्थानों को गुणवत्ता में सुधार हेतु उचित मार्गदर्शन प्रदान किया जा रहा है एवं गंभीर शिकायतों की स्थिति में सख्त प्रशासनिक कार्रवाई भी की जा रही है. इसी क्रम में निरीक्षण दल द्वारा भोजपुर स्थित मदर टेरेसा नर्सिंग स्कूल का 17 मई को औचक निरीक्षण किया गया. इस जाँच के दौरान पाया गया कि यह संस्थान कार्यरत नहीं है. जाँच के बाद स्पष्ट हुआ कि यह संस्थान वजूद में नहीं है एवं केवल कागजों पर ही चल रहा है.

प्रधान सचिव ने दिए सख्त कार्रवाई के आदेश : निरीक्षण दल की रिपोर्ट बुधवार को प्राप्त होते ही प्रधान सचिव स्वास्थ्य संजय कुमार ने इस संस्थान के विरुद्ध सख्त प्रशासनिक कार्रवाई के निर्देश जारी किया है. साथ ही संदर्भित संस्थान के संचालक से मान्यता रद्द करने के संबंध में कारण बताओ नोटिस का आदेश दिया गया है. इसके अलावा क्रिमिनल बीच ऑफ़ ट्रस्ट के मामले के तहत संस्थान के संचालक के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज कराने हेतु सिविल सर्जन भोजपुर को निर्देशित किया गया है. विभाग द्वारा अग्रेतर कार्रवाई हेतु इस संस्थान संबंधित वर्षवार नामांकन तथा पास किये छात्र/छात्राओं के संबंध में बिहार नर्सिंग रजिस्ट्रेशन काउंसिल से सूचना तलब की गयी है.

बुद्धा नर्सिंग स्कूल की मान्यता की गयी है रद्द : इसी कम में विभागीय औचक निरिक्षण के जाँच प्रतिवेदन एवं सिविल सर्जन नवादा के अनुश्रवण प्रतिवेदन के आधार पर एवं संस्थान से माँगे गए स्पष्टीकरण का उतर संस्थान द्वारा नहीं दिए जाने की स्थिति में समयावधि समाप्ति होने पर विभाग ने दिनांक 23.05.19 को बुद्धा ऑफ़ स्कूल नर्सिंग नवादा की एएनएम प्रशिक्षण पाठ्यक्रम संचालन हेतु प्रदत मान्यता रद्द किये जाने का अनुदेश जारी किया था.

प्रधान सचिव स्वास्थ्य विभाग संजय कुमार ने बताया कि विभाग द्वारा इस प्रकार के सतत् अनुश्रवण से सभी फर्जी नर्सिंग प्रशिक्षण संस्थानों को चिन्हित कर नियमानुसार उचित प्रशासनिक कार्रवाई करने से राज्य के नर्सिंग प्रशिक्षण संस्थानों में गुणवत्तापूर्ण शिक्षा/ प्रशिक्षण सुनिश्चित किया जा सकेगा. जिसके फलाफल में राज्य में उच्च स्तरीय लोक स्वास्थ्य सेवा सुनिश्चित हो पाएगी.

Back to top button