बेटे की लाश को जिंदा करने 12 घंटे रेत में गाड़े रखा माता-पिता ने

इंदिरा कॉलोनी के 17 साल के गोलू को 24 जून की रात करीब 7 बजे करंट लग गया था। उसके परिवार वालों ने पूरी रात गोलू का शव रेत में इस आस में दबाकर रखा कि वह जिंदा हो जाएगा।चंडीगढ़ के पास मनीमाजरा में 17 साल के बेटे की मौत के बाद उसे जिंदा करने की आस में माता-पिता ने बेटे को रेत में 12 घंटे तक गाढ़े रखा।
पुलिस ने सुबह जबरन गोलू का पोस्टमार्टम करवाया। अभी गोलू की मौत की वजह की पुष्टि नहीं हुई, लिहाजा परिवार वालों ने अंतिम संस्कार नहीं किया।परिवार वालों ने गोलू के शव को घर में ही रखा हुआ है। परिवार वाले इस बात पर अड़े हैं कि पहले गोलू की मौत का कारण बताया जाए, फिर उसका अंतिम संस्कार किया जाएगा।
पूरी रात घर में रेत में दबाकर रखा
गोलू के परिजनों ने गोलू का शव पूरी रात घर में रेत में दबाकर रखा। उसका चेहरा रेत से बाहर था। वहीं, परिवार वालों ने दूध से भरी कटोरी भी उसके पास रखी थी। परिजनों के मुताबिक उनके गांव में इसी तरह किसी को करंट लगा था और उन्होंने शव को मिट्टी में दबा दिया था, जिसके बाद व्यक्ति जिंदा हो गया था। इसी के चलते उन्होंने भी ऐसा किया। गोलू का शव करीब 12 घंटे मिट्टी में दबा रहा।
पुलिस बोली- नहीं आई पोस्टमार्टम रिपोर्ट
मनीमाजरा थाने के एसएचओ इंद्र का कहना है कि अभी रिपोर्ट नहीं आई है। रिपोर्ट आने के बाद ही आगे की कार्रवाई की जाएगी। उनसे पूछा गया कि परिजन शव का अंतिम संस्कार नहीं कर रहे हैं तो इस पर उन्होंने कहा कि जब डॉक्टर रिपोर्ट देंगे तभी पुलिस कार्रवाई कर सकती है।

परदे बेचने का काम करता था गोलू

गोलू यहां बस स्टैंड के सामने परदे बेचने का काम करता था। शनिवार को वह यहां अपनी दुकान पर खड़ा था। इसी दौरान उसे इलेक्ट्रिक पोल से करंट लग गया। पोल का जंक्शन बॉक्स टूटा हुआ और तारें बाहर निकली हुई हैं। इसी तार से पोल में करंट जा रहा था। गोलू ने पर्दे टांगने के लिए पोल से रस्सी लगा रखी थी। जब गोलू ने रस्सी उतारने के लिए पोल हो हाथ लगाया, उसे करंट लग गया।

Back to top button