आपसी सहयोग बढ़ाने के लिए भारत और ऑस्ट्रेलिया की नौसेनाओं के बीच समझौता

भारतीय नौसेना और रॉयल ऑस्ट्रेलियाई नौसेना ने भारत-प्रशांत क्षेत्र में शांति, सुरक्षा और स्थिरता को बढ़ावा देने के लिए आपसी सहयोग को और बढ़ाने के उद्देश्य से बातचीत के लिए पहले जॉइंट गाइडेंस फ़ॉर द इंडिया ऑस्ट्रेलिया नेवी टू नेवी रिलेशनशिप’ समझौते पर हस्ताक्षर किए। भारत और ऑस्ट्रेलिया की नौसेनाओं के बीच यह समझौता भारत-प्रशांत पर वैश्विक फोकस के बीच बढ़ते भारत-ऑस्ट्रेलिया संबंधों के लिए महत्वपूर्ण दस्तावेज है। जानकारी के लिए बता दें कि भारतीय नौसेना और रॉयल ऑस्ट्रेलियाई नौसेना के प्रमुखों ने 18 अगस्त को ‘संयुक्त मार्गदर्शन’ समझौते पर हस्ताक्षर किए थे।

टू-नेवी वार्ता पर हुए हस्ताक्षर

रक्षा मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि 18 अगस्त को भारतीय नौसेना और रॉयल ऑस्ट्रेलियाई नौसेना (आरएएन) के प्रमुखों द्वारा ‘भारत-ऑस्ट्रेलिया नौसेना के लिए नौसेना संबंध के लिए संयुक्त मार्गदर्शन’ दस्तावेज पर हस्ताक्षर करने के परिणामस्वरूप ‘नौसेना के संचालन के लिए संदर्भ की शर्तें- भारतीय नौसेना और रॉयल ऑस्ट्रेलियन नेवी के बीच टू-नेवी वार्ता पर हस्ताक्षर किए गए हैं। भारत-प्रशांत क्षेत्र में शांति, सुरक्षा और स्थिरता को बढ़ावा देने के लिए आपसी सहयोग को और बढ़ाने के उद्देश्य से बातचीत के लिए यह अपनी तरह का पहला समझौता है।

विस्तृत मार्गदर्शन

भारतीय नौसेना के प्रवक्ता कमांडर विवेक मधवाल ने कहा कि भारतीय पक्ष से एसीएनएस (विदेशी सहयोग और खुफिया) रियर एडमिरल जसविंदर सिंह और रॉयल ऑस्ट्रेलियन नौसेना स्टाफ के उप प्रमुख रियर एडमिरल क्रिस्टोफर स्मिथ ने संदर्भ की शर्तों पर हस्ताक्षर किए। यह दस्तावेज गहरी आपसी समझ, विश्वास और पारदर्शिता, बेहतर सद्भावना और एक-दूसरे की चिंताओं और भविष्य के निर्देशों की समझ के व्यापक उद्देश्य को रेखांकित करता है। इससे दोनों देशों की नौसेनाओं के बीच वार्ता संचालन के लिए विस्तृत मार्गदर्शन मिलेगा। यह वार्ता के विशिष्ट परिणामों के आधार पर अलग-अलग समझौतों के कार्यान्वयन के लिए लचीलापन भी प्रदान करता है।

उन्होंने कहा कि भारत और ऑस्ट्रेलिया की नौसेनाओं के बीच यह समझौता भारत-प्रशांत पर वैश्विक फोकस के बीच बढ़ते भारत-ऑस्ट्रेलिया संबंधों के लिए महत्वपूर्ण दस्तावेज है। संदर्भ की शर्तें हमारे प्रयासों को फलदायी और परिणामोन्मुख बनाने के लिए हैं क्योंकि दोनों नौसेनाएं विभिन्न स्तरों पर काम कर रही हैं। तेज और सुचारू संचार और परिणाम के लिए दोनों नौसेनाओं ने विभिन्न स्तरों के जुड़ाव के लिए विवरण और तौर-तरीके भी तैयार किए हैं।

भारत-ऑस्ट्रेलिया के बीच मजबूत रक्षा सहयोग

बताना चाहेंगे कि बीते कुछ वर्षों में भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच रक्षा सहयोग मजबूत हुआ है। व्यापक रणनीतिक साझेदारी, आपसी रसद समर्थन समझौता, त्रिपक्षीय समुद्री सुरक्षा कार्यशाला का आयोजन और मालाबार अभ्यास में आरएएन की भागीदारी महत्वपूर्ण मील के पत्थर हैं जो संबंधों को मजबूत करने में दोनों नौसेनाओं द्वारा निभाई गई भूमिका को रेखांकित करते हैं।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button