मैट्स और दुबई की स्कायलाइन यूनिवर्सिटी के बीच हुआ एमओयू

मैट्स के शिक्षक और विद्यार्थी दुबई में कर सकेंगे अध्ययन-अध्यापन, फेकल्टी एक्सचेंज प्रोग्राम सहित उच्च शिक्षा के क्षेत्र में उठाए जाएंगे अनेक महत्वपूर्ण कदम

रायपुर। राष्ट्रीय मूल्यांकन एवं प्रत्यायन परिषद द्वारा बी प्लस प्लस ग्रेड प्राप्त मैट्स यूनिवर्सिटी और संयुक्त अरब अमीरात की स्कायलाइन यूनिवर्सिटी के बीच विद्यार्थियों के सर्वांगीण विकास के लिए एमओयू हुआ है। इस एमओयू के मैट्स यूनिवर्सिटी के प्रा्ध्यापक और विद्यार्थी दुबई में अध्ययन और अध्यापन कर सकेंगे। इसके अलावा उच्च शिक्षा व अनुसंधान के क्षेत्र में अनेक महत्वपूर्ण कदम उठाये जाएंगे।यह जानकारी मैट्स यूूनिवर्सिटी के कुलसचिव गोकुलानंदा पंडा ने दी।

उन्होंने बताया कि गुरुवार को मैट्स यूनिवर्सिटी और स्कायलाइन यूनिवर्सिटी, यूएई के बीच इस एमओयू का वर्चुअल सेरेमनी का आयोजन किया गया। इस अवसर पर कुलपित प्रो. के.पी. यादव, कुलसचिव गोकुलानंदा पंडा, उपकुलसचिव मैथ्यू कोशि, इंटरनेशनल मार्केटिंग मैनेजर मीनाक्षी सिहं सहित सभी विभागों के विभागाध्यक्ष तथा स्कायलाइन यूनिवर्सिटी, यूएई के कुलपति डॉ. मोहम्मद इनारियत, स्कूल ऑफ बिजनेस के डीन डॉ. नसीम आबिदी, स्कूल आफ आईटी के डीन डॉ. घासन, कुलसचिव सुनीता मरवाह, मार्केटिंग डायरेक्टर राकेश गौर, लर्निंग एंड रिसोर्सेस के डायरेक्टर डॉ. दीपक कालरा प्रमुख रूप से उपस्थित थे।

कुलसचिव गोकुलानंदा पंडा ने बताया कि इस एमओयू के अंतर्गत दोनों विश्वविद्यालयों के बीच फेकल्टी एक्सचेंज प्रोग्राम, फेकल्टी डेवलपमेंट प्रोग्राम, संयुक्त रूप से शोध कार्य, भाषा का विकास, संयुक्त रूप से सेमीनार का आयोजन और शोध-प्रकाशन का कार्य किया जाएगा। इस एमओयू के अंतर्गत वैज्ञानिक शोध को बढ़ावा, ट्रेनिंग प्रोग्राम, शार्ट कोर्सेस, फ्यूचर डिजिटल सेंटर, सेमेस्टर एक्सचेंज, ईयर एक्सचेंज तथा अन्य महत्वपूूर्ण कदम उठाये जाएंगे।

मैट्स यूनिवर्सिटी के कुलाधिपति गजराज पगारिया एवं महानिदेशक प्रियेश पगारिया ने इस एमओयू को महत्वपूर्ण बताया तथा कहा कि छत्तीसगढ़ के प्राध्यापकों तथा विद्यार्थियों को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर उच्च शिक्षा का लाभ प्राप्त होगा एवं सर्वांगीण विकास होगा

Tags
Back to top button