बड़ी खबरमध्यप्रदेशराज्यराष्ट्रीय

MP: प्रवासी मजदूरों की मदद के नाम पर राज्य में शुरू हुई सियासत – शिवराज सिंह

ट्वीट कर मध्य प्रदेश आमंत्रित करते हुए यह सलाह दी

नई दिल्ली/ देश में कोरोना संकट के कारण लगे लॉक डाउन में प्रवासी मजदूरों को उनके गृह राज्य पहुंचाने के लिए बस और ट्रेनों का इंतजाम किया जा रहा है। बावजूद इसके कई मजदूर पैदल ही अपने घर के लिए निकल पड़े हैं।

ऐसे में मध्य प्रदेश में राजनीतिक घमासान तेज हो गई है। प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कांग्रेस उपाध्यक्ष प्रियंका गांधी को ट्वीट कर मध्य प्रदेश आमंत्रित करते हुए यह सलाह दी है कि वे मध्यप्रदेश की व्यवस्था देखें और इस से सीख लें। उन्होंने कहा कि इससे उनको मदद मिलेगी।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के इस ट्वीट के बाद मध्य प्रदेश के कांग्रेस नेता प्रवासी मजदूरों के लिए की गई व्यवस्थाओं के लाइव वीडियो बनाने आनेलगे और इसके बाद बयानबाजी भी तेज हो गई।

मुख्यमंत्री कमलनाथ किया पलटवार

इस बयान के बाद पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने पलटवार करते हुए कहा कि यह सही है कि मजदूर की सुध लेने गए नहीं तो आपको सच्चाई का पता भी कैसे लगता। दरअसल उत्तर प्रदेश बस मामले पर चल रहे सियासी घमासान के बीच मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर प्रियंका गांधी और कांग्रेस पर तंज कसा, उन्होंने लिखा कि केवल प्रियंका गांधी को मध्यप्रदेश आमंत्रित किया वहीं यहां मजदूरों की व्यवस्था की तारीफ भी की।

पूर्व सीएम कमलनाथ ने सीएम के बयान को बताया शर्मनाक

शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर लिखा कि मध्य प्रदेश आइए और यहां की व्यवस्था देखिए और इससे सीखिए जिससे आपको मदद मिलेगी। मुख्यमंत्री ने लिखा कि मध्यप्रदेश की धरती पर आपको कोई मजदूर भूखा प्यासा और पैदल चलता हुआ नहीं मिलेगा। हमने इसके लिए कारगर इंतजाम किए हैं।

मुख्यमंत्री के इस ट्वीट के बाद फुल पूर्व सीएम कमलनाथ ने भी पलटवार शुरू कर दिया। उन्होंने लिखा कि मजदूरों के नाम पर इतना बड़ा झूठ बोलना और मजाक करना शर्मनाक है जब आप इन मजदूरों की सुध लेने नहीं गए तो आपको सच्चाई कैसे पता चलेगा।

कमलनाथ ने बताया कि प्रदेश के सभी प्रमुख मार्ग और सीमाओं पर हजारों मजदूर भरे हुए हैं। ऐसे में कोई नंगे पैर पैदल, पैरों में छाले लिए, ठेले पर, साइकिल पर, ऑटो से और मालवाहक गाड़ियों से अपने घर जा रहे हैं।

उन्होंने लिखा कि ऐसे में घर लौटते यह बेबस लाचार मजदूर दुर्घटना का भी शिकार हो गए। वहीं पूर्व मुख्यमंत्री ने आरोप लगाया कि कई भूख प्यास गर्मी से दम तोड़ चुके हैं। इसके अलावा कई गर्भवती महिलाएं सड़क पर ही बच्चों को जन्म दे चुकी हैं।

Tags
Back to top button