मोपका का हाईस्कूल शहीद दीपक उपाध्याय के नाम पर

अंकित मिंज

बिलासपुर।

बिल्हा विकासखंड के मोपका शासकीय हाईस्कूल को अब शहीद दीपक उपाध्याय शास। हाई स्कूल के नाम से जाना जाएगा। स्कूल में रंग.रोगन और नाम लिखने की प्रक्रिया भी पूरी हो चुकी है। सरकारी दस्तावेजों में भी स्कूल के नाम में सुधार किया जा चुका है। वर्ष 20113 के झीरमघाटी नक्सली हमले में मोपका के सपूत दीपक उपाध्याय के शहीद होने के बाद से ही लगातार स्थानीय जनप्रतिनिधि व गणमान्य लोग यहां के स्कूल को शहीद के नाम से करने का प्रयास कर रहे थे।

लोगों के प्रयास रंग लाए और विगत 6 अक्टूबर को छत्तीसगढ़ के राज्यपाल के आदेश पर छत्तीसगढ़ स्कूल शिक्षा विभाग के अवर सचिव सुरेंद्र सिंह बाघे ने मोपका के शासकीय हाई स्कूल का नाम शहीद दीपक उपाध्याय शासकीय हाई स्कूल किया था।

आदेश के बाद आचार संहिता के कारण स्कूल में शहीद दीपक उपाध्याय का नाम नहीं लिखा गया था। चुनाव खत्म होते ही प्राचार्य ने स्कूल का नाम शहीद दीपक उपाध्याय शासकीय स्कूल लिखवा दिया है। गांव के स्कूल का नाम शहीद दीपक उपाध्याय के नाम होने पर ग्रामीणों में उत्साह है।
याद करते ही छलक पड़ती हैं आंखें
दीपक की शहादत के बाद मोपका में चौक.चौराहों पर शहीद की मूर्ति लगाने की मांग की जाती रही है। शहीद दीपक के नाम से मोपका की कुछ सड़कों का नाम भी रखा गया है। आज भी लोग जब शहीद दीपक उपाध्याय को याद करते हैं तो उनकी आंखे छलक पड़ती हैं।

पत्नी भी प्रतिवर्ष पहुंचती हैं स्कूल

शहादत के बाद शहीद दीपक की पत्नी क्षिप्रा उपाध्याय को पुलिस में अनुकंपा नियुक्ति मिल गई है। पुलिस की नौकरी के दौरान प्रतिवर्ष उनकी पत्नी क्षिप्रा उपाध्याय मोपका के इस स्कूल में पहुंचती हैं और छात्रों को उपहार भेंट करतीं हैं। पत्नी क्षिप्रा का स्कूल के बच्चों के प्रति गहरा लगाव है।

अक्टूबर में मिले निर्देश के बाद स्कूल को शहीद दीपक उपाध्याय हाई स्कूल के नाम पर करने की कार्रवाई जारी थी। चुनाव खत्म होते ही स्कूल का नाम बदलकर शहीद दीपक उपाध्याय के नाम कर दिया गया है।
-अर्चना जोशी, प्राचार्य, शहीद दीपक उपाध्याय हाई स्कूल मोपका

advt
Back to top button