राष्ट्रीय

राज्य सरकार द्वारा दक्षिण मुंबई स्थित 100 साल पुरानी बीडीडी चॉलों के पुनर्वास

सरकार ने लिया सैंपल फ्लैट दिखाने का निर्णय, मुंबई में अब तक की सबसे महंगी फ्लैट डील

मुंबई. महानगर के बीडीडी चॉल के निवासियों के लिए राहत की बात यह है कि उन्हें अपने मौजूदा घर के आकार से 1.5 गुना बड़ा घर मिलेगा। साथ ही यह घर बाजार में बिक्री के लिए बने ‘सेल कंपोनेंट’ फ्लैटों जितना ही सुंदर होगा।

राज्य सरकार द्वारा दक्षिण मुंबई स्थित 100 साल पुरानी बीडीडी (बॉम्बे डिवेलपमेंड डिपार्टमेंट) चॉलों के पुनर्वास का निर्णय लिया गया था। इतना ही नहीं, मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के हाथों अप्रैल 2017 में बीडीडी चॉल के पुनर्वास की नींव रखी गई थी।

बीडीडी चॉल एन.एम. जोशी मार्ग और नायगांव का पुनर्वास अगले 7 साल में पूरा कर लिया जाएगा। पुनर्वास के बाद सभी पात्र निवासियों को 500 वर्गफुट के घर मिलेंगे, जो मौजूदा क्षेत्रफल से 1.5 गुना बड़े होंगे। अक्सर देखा जाता रहा है कि मकान या झोपड़ों के पुनर्वास के दौरान पात्र निवासियों को मिलने वाले घर ‘सेल कंपोनेंट’ फ्लैटों की तुलना में खराब किस्म के होते हैं।

निवासियों को हमेशा से आशंका थी कि पुनर्वास के बाद उन्हें अच्छे घर नहीं मिलेंगे। इस समस्या को सुलझाने के लिए राज्य सरकार द्वारा निवासियों को सैंपल फ्लैट दिखाने का निर्णय लिया गया। बता दें कि बीडीडी चॉल के निवासियों को मिलने वाले घर इस सैंपल फ्लैट की ही तरह होंगे। इसमें मास्टर बेडरूम समेत डायनिंग हॉल, अटैच बाथरूम की सुविधाएं होंगी।

मुंबई में घर बनाना और खरीदना महंगा हो गया है इसमें कोई दो राय नहीं, लेकिन यहां हाल ही में सबसे महंगी फ्लैट की खरीद-बिक्री की गई है। बताया जा रहा है कि नेपिअन सी रोड पर बनने वाले आवासीय टावर में चार अपार्टमेंट कुल 240 करोड़ रुपये में खरीदे गए हैं। रियल इस्टेट के सूत्रों के मुताबिक लग्जरी टावर द रेजिडेंस की 28वीं से 31वीं मंजिल के बीच के चार फ्लैट रुनवाल ग्रुप से तंवारिया परिवार ने खरीदे हैं। पिछले महीने हुई इस डील में 1.2 लाख रुपये प्रति वर्गफीट के हिसाब से चार फ्लैट खरीदे गए।

चारों सुपर बिल्टअप और हैं और हर फ्लैट का कारपेट एरिया करीब 4500 वर्गफीट है। यह टावर किलाचंद हाउस के पास है जो मुंबई का एक ग्रैंड पैलेस है। कमजोर रहे रियल इस्टेट बाजार में इतनी बड़ी खरीद को लेकर कहा जा रहा है कि यह एकमात्र खरीद बाजार का चेहरा नहीं है, बाजार की स्थिति अब भी बहुत अच्छी नहीं है।

तपारिया परिवार के पास गर्भनिरोधक निर्माता फैमी केयर का स्वामित्व था, जिसे उन्होंने तीन साल पहले लगभग 4,600 करोड़ रुपए में बेच दिया था।

Summary
Review Date
Reviewed Item
मुंबई के 100 साल पुराने चॉलवालों को महाराष्ट्र सरकार देगी आशियाना
Author Rating
51star1star1star1star1star

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.