छत्तीसगढ़

6 माह में घरघोड़ा नर्सरी में शुरू होगा मुनगा प्रोसेसिंग प्लांट

कलेक्टर सिंह के निर्देश पर उद्यानिकी विभाग कर रहा है तेजी से काम

हिमालय मुखर्जी ब्यूरो चीफ रायगढ़

रायगढ़, 9 नवम्बर 2020/ मुनगा की औषधीय खूबियों का लाभ बड़े पैमाने पर लेने के उद्देश्य से जिले में मुनगा प्रोसेसिंग प्लांट लगाया जा रहा है। जहाँ मुनगा की पत्तियों को प्रोसेस कर रोजमर्रा के लिए उपयोगी सामग्री तैयार की जाएँगी। यह प्लांट आजीविका संवर्धन की दिशा में भी सहायक सिद्ध होगा।

कलेक्टर भीम सिंह कार्ययोजना को मूर्त रूप देने के लिए विशेष रूप से उद्यानिकी विभाग की बैठकें लेकर कार्य की प्रगति की समीक्षा कर रहे हैं। उनके निर्देश पर प्रोजेक्ट को तेजी से आगे बढ़ाने की दिशा में कार्य किया जा रहा है।

जिले में घरघोड़ा की शासकीय नर्सरी में यह मुनगा प्रोसेसिंग प्लांट लगाया जा रहा है। जिसकी लागत 2 करोड़ रुपये है। जिसमें 1.15 करोड़ रुपये की मशीनरी और 85 लाख रुपये का औद्योगिक शेड शामिल है। प्लांट निर्माण का कार्य टेंडर प्रकिया के अंतिम चरण में है। आगामी 6-7 माह में कार्य पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है। प्लांट में मुनगा की पत्तियों की प्रोसेसिंग कर उसका पाउडर बनाया जायेगा। मशीन की 200 किग्रा मुनगा पत्तियों को प्रति घंटा प्रोसेस करने की क्षमता होगी। इस पाउडर से अन्य उत्पाद जैसे कूकीज, नूडल्स, चाय, कैप्सूल और तेल तैयार किया जायेगा। कच्चे माल के रूप में मुनगा पत्तियों की सुलभता के लिए वन और उद्यानिकी विभाग द्वारा 500 हेक्टेयर में मुनगा के पौधे लगाने की तैयारी है। इसके साथ ही किसानों को भी अपनी जमीन पर मुनगा उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए भी उद्यान विभाग ने विस्तृत कार्ययोजना बनाई है।

किसान भी मुनगा उत्पादन कर ले सकेंगे अच्छा मुनाफा

उद्यानिकी विभाग के सहायक संचालक ने बताया कि एक एकड में मुनगा उत्पादन की लागत लगभग 25-27 हजार रुपये आती है। वहीं प्रति एकड़ फसल बेचने से लगभग 80 हजार रुपये की आमदनी होती है। जिसमें अगर उत्पादन लागत को हटा दिया जाये तो लगभग 55 हजार रुपये का शुद्ध मुनाफा किसान कमा सकते हैं। चूँकि प्रोसेसिंग के लिए पत्तियों की आवश्यकता होती है तो पौधे लगाने के बाद 5-6 फीट ऊँचे होने पर पत्तियां तोड़ी जा सकती हैं। इस तरह से किसान एक साल में 2 से 3 फसल ले सकता है, जिसमें प्रति एकड़ उसे लगभग 1 लाख 50 हजार तक की शुद्ध आय हो सकती है।

रोजगार के भी बढ़ेंगे मौके

उन्होंने आगे बताया कि इस प्लांट के लगने से रोजगार के और भी मौके तैयार
होंगे। प्रोसेसिंग प्लांट में कार्य करने के लिए टेक्निीशियन्स के साथ ही पत्तियों की खरीदी करने वालों की आवश्यकता होगी। प्रोसेसिंग यूनिट में अन्य उत्पाद बनाने का काम स्व-सहायता समूह की महिलाओं को दिया जायेगा। पैकेजिंग और विपणन का कार्य भी महिला समूहों के द्वारा किया जायेगा।

ये हैं मुनगा के औषधीय गुण

गौरतलब है कि मुनगा के अपने औषधीय गुणों के कारण विख्यात है। इसमें विटामिन्स और मिनरल्स की प्रचुरता होती है। विटामिन सी और पोटैशियम भी पाया जाता है। इसके साथ ही इसमें कैल्शियम, प्रोटीन, आयरन, एमिनो एसिड और एंटी ओक्सिडेंट्स होते हैं। मुनगा का सेवन शरीर की प्रतिरक्षा तंत्र को मजबूत बनाता है और कुपोषण को दूर करने में काफी कारगर होता है।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button