मध्यप्रदेशराज्य

लूट या चोरी की नीयत से नहीं की गई हत्याएं, आपसी रंजिश की जताई जा रही आशंका

हत्याकाण्ड कहीं न कहीं आपसी रंजिश के कारण हुआ

रतलाम: मध्‍य प्रदेश के रतलाम में विनोबा नगर इलाके के राजीव नगर स्थित मकान नंबर 61 में रहने वाले गोविन्द राम सोलंकी (50), उसकी पत्नी शारदा (45) और पुत्री दिव्या (22) की अज्ञात हमलावरों ने बुधवार रात गोली मार कर हत्या कर दी. मृतक गोविन्द राम सोलंकी स्टेशन रोड क्षेत्र में हेयर सैलून चलाता था जबकि उसकी पुत्री दिव्या नर्सिंग की पढ़ाई कर रही थी.

वहीँ इस मामले की गुत्‍थ‍ियां धीरे-धीरे सुलझने लगी हैं. पुलिस की जांच में यह माना जा रहा है ये हत्याएं लूट या चोरी की नीयत से नहीं की गई हैं. इसका दूसरा अर्थ यह भी है कि यह हत्याकाण्ड कहीं न कहीं आपसी रंजिश के कारण हुआ है.

गोली भी इतनी सटीक तरीके से मारी गई है कि एक गोली में एक की मौत हो गई. इससे पुलिस को लग रहा है कि हत्‍यारे प्रोफेशनल किलर हैं. पुलिस के जांचकर्ता शुरुआती तौर पर यही मान रहे हैं कि ये जघन्य हत्याकाण्ड किसी रंजिश की वजह से अंजाम दिया गया है.

हत्या के समय का ठीक-ठीक अंदाजा तो पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट से लग सकेगा लेकिन जांच के दौरान यह तथ्य सामने आया है कि गृहस्वामी मृतक गोविन्द राम रात को 9 बजे तक दुकान चलाता था और इसके बाद दुकान बन्द करके घर लौटता था.

घटना वाली रात भी दुकान बन्द करके साढ़े नौ तक घर लौटा था. इस हिसाब से हत्या की वारदात रात साढ़े नौ बजे के बाद ही हुई होगी. तीन लोगों की हत्या के लिए कम से कम तीन फायर किए गए थे लेकिन आसपास में किसी को फायर की आवाज सुनाई नहीं दी.

इसका कारण यह माना जा रहा है कि बुधवार रात को देवउठनी एकादशी होने की वजह से रात के वक्त पूरे शहर में पटाखे फोड़े जा रहे थे और हर तरफ पटाखों की आवाज गूंज रही थी. पटाखों के शोर में रिवाल्वर के फायर की आवाज दब गई और इसी वजह से आसपास के लोग फायर की आवाज को समझ नहीं पाए.

मृतक गोविन्द सोलंकी के ही घर में किराये से रहने वाली एक युवती मृतक दिव्या की सहेली थी. मृतक दिव्या नर्सिंग की पढ़ाई कर रही थी और उसी के घर में रहने वाली युवती नर्सिंग की पढ़ाई पूरी करके एक निजी अस्पताल में काम करती थी. इसी वजह से किराए से रहने वाली युवती की मृतक दिव्या से दोस्ती थी.

गुरुवार सुबह करीब साढ़े आठ बजे दिव्या की सहेली एक्टिवा की चाबी लेने दूसरी मंजिल पर गोविन्द सोलंकी के घर पंहुची थी. उसी समय उसे इस घटना की जानकारी मिली. उक्त युवती ने तत्काल मकान के अन्य रहवासियों को इस बारे में बताया और फिर तत्काल पुलिस को घटना की सूचना दी गई.

गोविन्द राम सोलंकी का राजीव नगर स्थित मकान एक चार मंजिला इमारत है. इस भवन के तल मंजिल पर दो परिवार किरायेदार हैं जबकि एक दुकान बनी हुई है. यहां किराने की दुकान संचालित की जाती है. पहली मंजिल पर गोविन्द अपने परिवार के साथ रहता था. तीसरी मंजिल पर भी दो परिवार किरायेदार थे जबकि चौथी मंजिल पर एक कमरा बना हुआ है.

जब पुलिस मौके पर पंहुची तब मृतक गोविन्द राम का शव दरवाजे के पास ही पड़ा मिला. उसके पास ही दूध की थैली और कुछ सामान भी पडा था. इससे अंदाजा लगाया गया कि हत्यारे ने घर में घुसते ही सबसे पहले दरवाजे पर ही गोविन्द सोलंकी को शूट किया. उसकी पत्नी का शव पलंग पर पाया गया.

गोविन्द को गोली मारने के बाद हत्यारे ने सोने की तैयारी कर रही उसकी पत्नी शारदा पर फायर किया. इसके बाद हत्यारा पिछले कमरे में पंहुचा जहां उसने दिव्या को शूट किया. दिव्या का शव कमरे के फर्श पर पड़ा मिला था. वारदात की जानकारी सुबह करीब साढ़े आठ बजे मिली थी.

पुलिस का अनुमान है कि हत्या की वारदात इससे करीब 6 से 8 घण्टे पहले हुई होगी. तीनों शव कड़े हो चुके थे. इसी कारण यह अनुमान लगाया जा रहा है. हालांकि पुलिस कई एंगल पर जांच कर रही है. कुछ इस प्रकार की सूचनाएं भी पुलिस को मिली है कि मृतक ने कोई जमीन बेची थी जिसके एवज में बीस लाख रुपये से अधिक रकम मिली थी. हालांकि इसकी पुष्टि फिलहाल नहीं हो सकी है.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button