राष्ट्रीय

सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ पुनर्विचार याचिका दाखिल करें मुस्लिम पक्ष -श्री श्री रविशंकर

मुस्लिम पक्ष से अपील करते हुए श्री श्री रविशंकर ने कहा

नई दिल्ली: बाबरी की बरसी पर जमीयत उलेमा-ए-हिंद अयोध्या के फैसले पर पुनर्विचार याचिका दायर करेगा. यह याचिका जमीयत के यूपी जनरल सेक्रटरी मौलाना अशद रशीदी की ओर से दायर की जाएगी.

वहीं इस मामले में मुस्लिम पक्ष से अपील करते हुए अध्यात्मिक गुरू श्री श्री रविशंकर ने कहा कि मुस्लिम पक्ष सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ पुनर्विचार याचिका दाखिल करें. उनके पास एक मौका है.

यह मसला अब खत्म हो चुका है, इसलिए मैं उनसे कहना है कि वे अपने फैसले (पुनर्विचार याचिका दाखिल करने) पर फिर से सोचें. दोनों पक्षों ने अयोध्या फैसले को स्वीकार किया है.’रविशंकर से जब यह कहा गया कि क्या इस मामले में मुस्लिम पक्ष दोहरा रवैया अपना रहा है तो उन्होंने कहा, मैं इस पर कोई टिप्पणी नहीं कर सकूंगा.

अयोध्या में रामजन्मभूमि विवाद पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ आल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड(आईएमपीएलबी) दिसंबर के पहले सप्ताह में पुनर्विचार याचिका दायर करेगा. बाबरी मस्जिद एक्शन कमेटी के संयोजक जफरयाब जिलानी ने कहा कि याचिका आठ दिसंबर से पहले दाखिल की जानी है. हालांकि अभी इसकी कोई तिथि तय नहीं है.

इस मामले में सुन्नी वक्फ बोर्ड के फैसले के बारे में जिलाली ने कहा, “सुन्नी वक्फ बोर्ड के फैसले से हमारे ऊपर कोई फर्क नहीं पड़ता है. चाहे वह राजी हो या न हो. अगर एक भी पक्षकार पुनर्विचार याचिका दाखिल करने के पक्ष में हैं तो भारतीय संविधान उसे पूरा अधिकार देता है.

सुन्नी वक्फ बोर्ड पुनर्विचार याचिका दाखिल नहीं करना चाहता तो न करे. सुन्नी वक्फ बोर्ड का फैसला कानूनी रूप से हमें प्रभावित नहीं करेगा. सभी मुस्लिम संगठन पुनर्विचार याचिका दायर करने को लेकर एक राय रखते हैं.”

Tags
Back to top button