मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड – रात 12 बजे आती थी चिल्लाने की आवाज

एक के बाद एक कई चौंकाने वाले खुलासे

नई दिल्ली। मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड में एक के बाद एक कई चौंकाने वाले खुालसे हो रहे हैं। जांच के दौरान कुछ ऐसी बातें सामने आई है, जिसने पुलिस को भी हैरत में डाल दिया है। पूछताछ के दौरान पुलिस को कुछ लोगों ने बताया कि ब्रजेश ठाकुर की सुधार गृह में रात के 12 बजते ही महिलाओं के चीखने-चिलाने की आवाजें आनी लगती थी। लोगों ने जब इसकी शिकायत ब्रजेश ठाकुर से उसने मामले को अजीबोगरीब ढंग से टाल दिया।

दरअसल, जांच के दौरान पुलिस पूछताछ में अगल-बगल के लोगों ने बताया कि रात के 12 बजे के बाद यहां से चीखने-चिल्लाने की आवाज आती थी। आवाज से ऐसा लगता था कि किसी महिला के साथ जबरदस्ती की जा रही हो। कई बार तो पड़ोस के कुछ बुद्धिजीवियों ने ब्रजेश ठाकुर से इसकी शिकायत भी की थी। लेकिन, ब्रजेश ने यह कहकर शांत करा दिया कि कुछ पागल महिलाएं यहां रहती हैं, जो रात में तरह-तरह की आवाज निकालकर चिल्लाती हैं।

महिलाओं का होता था शोषण : हालांकि, कुछ लोग ब्रजेश की इस दलील से इत्तेफाक नहीं रखते हैं। उनका कहना है कि ब्रजेश की बात बेबुनियाद है। पड़ोसियों का कहना है कि रातभर यहां पुरुषों का आना-जाना लगा रहता था। दबी जुबान से पुलिस भी मान रही है कि बंद कोठरी के अंदर महिलाओं का शोषण होता था।

बता दें कि स्वाधार केंद्र से इस्तेमाल कंडोम, बेड पर गिरे दाग व अन्य आपत्तिजनक सामान मिलने से कई तरह की आशंकाएं बढ़ गई हैं। पुलिस टीम इन सभी बिंदुओं पर जांच कर रही है। एफएसएल की रिपोर्ट के बाद यह स्पष्ट हो जाएगा कि यहां पर होनेवाले खेल के पीछे सच्चाई क्या है। फिलहाल, अब तक जो सच्चाई सामने आई है उससे साफ स्पष्ट है कि मदद के नाम पर महिलाओं के साथ अत्याचार किया जाता था और उनका यौन शोषण किया जा रहा था। फिलहाल, पूरे मामले की छानबीन जा रही है। वहीं, सुप्रीम कोर्ट ने भी स्वत: संज्ञान लेते हुए केन्द्र और राज्य सरकार से रिपोर्ट मांगी है।

Back to top button