मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड – मंत्री मंजू वर्मा ने दिया इस्तीफा

कहा -मैंने स्वेच्छा से दिया अपना इस्तीफा

पटना । मुजफ्फरपुर बालिका गृह यौनशोषण कांड में रोज नए हो रहे खुलासे और इस मामले में राज्य सरकार की हो रही किरकिरी के बाद आखिरकार बिहार की समाज कल्याण मंत्री मंजू वर्मा ने बुधवार को अपने पद से इस्तीफा दे दिया है।

इस मामले में अपना और अपने पति का नाम आने के बाद मंजू वर्मा ने कहा था कि आरोप जबतक सिद्ध नहीं होता मैं इस्तीफा नहीं दूंगी।लेकिन, कल सीबीआई की ब्रजेश ठाकुर के मोबाइल फोन की सीडीआर खंगालने के बाद मंजू वर्मा और उनके पति का बालिका गृह यौनशोषण मामले के आरोपी ब्रजेश ठाकुर से बातचीत और संबंध का खुलासा होने के बाद आज मंत्री ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मिलकर उन्हें अपना इस्तीफा सौंप दिया है। बता दें कि विपक्षी पार्टियां बालिका गृह यौनशोषण कांड में मंत्री मंजू वर्मा और उनके पति के मामले के मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर से संबंध जाहिर होने के बाद उनके इस्तीफे की मांग लगातार कर रही थीं।

बोलीं -मेरे पति निर्दोष
अपना इस्तीफा मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को सौंपने के बाद मंजू वर्मा ने कहा कि मैंने स्वेच्छा से अपना इस्तीफा दिया है और मैं आज भी कह रही हूं कि मेरे पति निर्दोष हैं। मैं पहले भी कह चुकी हूं कि मैं बिहार का राजनीतिक चेहरा हूं, मैं जिस पद पर हूं उसे लेकर ब्रजेश से बातचीत होती थी। ब्रजेश ठाकुर की मेरे पति से भी बात होती थी। लेकिन ये कौन जानता था कि वह बालिका गृह में क्या करता था?

उन्होंने कहा कि जब ये बात कल मीडिया में आई कि ब्रजेश ठाकुर से मेरे पति की जनवरी से मई तक 17 बार बात हुई है तो इसे तूल दिया जा रहा था। इसे लेकर ही मैंने ये डिसीजन लिया कि मुझे इस्तीफा दे देना चाहिए और मैंने इस्तीफा मुख्यमंत्री जी को सौंप दिया। मंत्री ने कहा कि मैं पटना हाईकोर्ट और सीबीआई से ये मांग करती हूं कि ब्रजेश ठाकुर के साथ इस मामले में कौन-कौन राजनेता शामिल हैं और किन अधिकारियों से उसकी बात होती थी? सबका कॉल डिटेल सीबीआई को निकालना चाहिए और पटना हाईकोर्ट को भी उस सीडीआर को देखना चाहिए कि ब्रजेश ठाकुर के किस-किस से संबंध थे? सीडीआर को सार्वजनिक करना चाहिए और जिससे भी ब्रजेश ठाकुर ने बात किया है सबपर कार्रवाई की जाए।

माना -मेरी और मेरे पति की ब्रजेश से हुई थी बात
सीबीआई जांच में ब्रजेश के कॉल डिटेल्स खंगालने के बाद ये बात पता चली कि मंजू वर्मा की ब्रजेश ठाकुर से बात होती थी जिसके बाद मंत्री ने कल ये स्वीकार किया था कि उनकी बालिका गृह मामले के मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर से बात होती थी, लेकिन सिर्फ विभागीय बात होती थी। कभी-कभी उनके पति भी कॉल रिसीव करते थे। बता दें कि ब्रजेश ठाकुर के मोबाइल फोन के सीडीआर से खुलासा हुआ था कि जनवरी से अबतक मंजू वर्मा से ब्रजेश ठाकुर की 17 बार बात हुई है।

मंत्री के पति पर लगा था आरोप-अक्सर जाते थे बालिका गृह
समाज कल्याण मंत्री मंजू वर्मा के पति पर आरोप लगा है कि वो बालिका गृह में अक्सर जाते थे और बच्चियां उन्हें पेट वाले अंकल के नाम से जानती थीं। बच्चियों ने भी बताया कि पेट वाले अंकल आते थे। आरोप लगने के बाद मंत्री मंजू वर्मा ने इस बात से इन्कार किया और कहा कि मेरे पति मेरे साथ एक बार गए थे। उन्होंने कहा कि आरोप सिद्ध हो गया तो इस्तीफा दे दूंगी।
बालिका गृह के सीडीपीओ रवि कुमार रौशन की पत्नी ने बड़ा आरोप लगाते हुए पूछा था कि समाज कल्याण विभाग की मंत्री मंजू वर्मा के पति चंद्रशेखर वर्मा बालिका गृह में अपने साथ जानेवाले अधिकारियों को बाहर छोड़ कर उसके भीतर क्या करने जाते थे? वहां की लड़कियां उन्हें ‘नेताजी’ के तौर जानती थीं। इसपर नाराजगी जाहिर करते हुए मंजू वर्मा ने कहा कि अगर ऐसा कुछ था तो पिछले दो सालों से वो क्यों चुप थीं?

Back to top button