राष्ट्रीय

मुजफ्फरपुर कांड – मंत्री मंजू वर्मा, लटकी गिरफ्तारी की तलवार

सीबीआई ने छापेमारी में पूर्व मंत्री के आवास से बरामद हुए थे 50 अवैध कारतूस

नई दिल्ली : मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड मामले की जांच तेजी से आगे बढ़ रही है। इसी के साथ अब बिहार की पूर्व समाज कल्याण मंत्री मंजू वर्मा और उनके पति पर गिरफ्तारी की तलवार लटकने लगी है। जांच के दौरान मंत्री के घर से बड़ी संख्या में अवैध कारतूस बरामद हुआ था। ऐसे में आर्म्स एक्ट के तहत उनकी और उनके पति गिरफ्तारी हो सकती है।

यह मामला तूल पकड़ने पर बिहार सरकार ने मुजफ्फरपुर बालिका गृह रेप कांड की जांच सीबीआई को सौंप दी थी। सीबीआई इस मामले में तेजी से काम कर रही है। जांच के क्रम में 17 अगस्त को मंजू वर्मा के बेगूसराय जिले के आवास पर सीबीआई ने छापेमारी की थी। सीबीआई के अधिकारियों को उनके आवास से 50 अवैध कारतूस बरामद मिले थे। इस मामले में सीबीआई के डीएसपी ने चेरिया बरियारपुर थाने में मामला दर्ज कराया था। बेगूसराय पुलिस ने जब्त किए गए सभी कारतूसों को जांच के लिए पटना के विधि विज्ञान प्रयोगशाला में भेजा था। जांच में पता चला कि बरामद किए गए सभी कारतूस अवैध हैं।

मंत्री के बेटे ने लगाई गुहार
इस बारे में बेगूसराय के एसपी आदित्य कुमार का कहना है कि उन्हें अवैध कारतूस के मामले में रिपोर्ट आने का इंतजार है। रिपोर्ट आने के बाद ही कार्रवाई की जाएगी। हालांकि मंजू वर्मा के बेटे ने पुलिस से मिलकर गुहार लगाई है कि बरामद कारतूस उनके नहीं हैं। पुलिस का कहना है कि अगर लिखित में आवेदन आता है तो उसकी भी जांच होगी।

बृजेश ठाकुर से सांठगांठ का आरोप
आपको बता दें कि हाल ही में ब्रजेश ठाकुर द्वारा संचालित मुजफ्फरपुर शेल्टर होम में 34 नाबालिक लड़कियों के साथ यौन शोषण का मामला सामने आया था। इस मामले में मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर और मंजू वर्मा के पति चंद्रशेखर वर्मा के बीच बातचीत और सांठगांठ का आरोप है। आरोप लगने और मामला तूल पकड़ने के बाद नीतीश कुमार की सरकार में मंत्री मंजू वर्मा ने आठ अगस्त को समाज कल्याण मंत्री के पद से इस्तीफा दे दिया था। इसके बाद सीबीआई ने मंजू वर्मा के पटना समेत कई ठिकानों पर छापेमारी की थी।

Back to top button