मन कि बात: आखिर किसे बताया PM मोदी ने भारत का गौरव

पीएम ने कहा कि शक्तिकरण आत्मनिर्भरता का ही एक रूप है

मन कि बात: आखिर किसे बताया PM मोदी ने भारत का गौरव

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज रविवार (25 फरवरी) को देशवासियों से ‘मन की बात’ कर रहे हैं। अपने 41वें ‘मन की बात’ कार्यक्रम में पीएम मोदी ने भारत के महान वैज्ञानिक एवं नोबेल पुरस्कार विजेता सर सी वी रमन को याद किया। उन्होंने कहा कि 28 फ़रवरी को रमन इफ़ेक्ट की खोज किये जाने पर इस दिन को नेशनल साइंस डे के रूप में मनाया जाता है

पीएम मोदी ने कहा कि भारत के महान वैज्ञानिकों में एक तरफ़ महान गणितज्ञ बोधायन, भास्कर, ब्रह्मगुप्त और आर्यभट्ट की परंपरा रही है तो दूसरी तरफ़ चिकित्सा के क्षेत्र में सुश्रुत और चरक हमारा गौरव हैं। सर जगदीश चन्द्र बोस, हरगोविंद खुराना, सत्येन्द्र नाथ बोस जैसे वैज्ञानिक भारत के गौरव हैं।

मोदी ने कहा कि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के माध्यम से रोबोट, बोट्स और स्पेसिफिक टास्क करने वाली मशीनें बनाने बनायी जाती हैं जो सेल्फ लर्निंग से अपनी इंटेलिजेंस को और अधिक बनाती हैं। इस टेक्नोलॉजी का उपयोग गरीबों, वंचितों या ज़रुरतमंदों का जीवन बेहतर करने के लिए किया जा सकता है।

पीएम मोदी ने कहा- “क्या कभी हमने सोचा है कि नदी हो, समुन्दर हो, पानी रंगीन क्यों हो जाता है? यही प्रश्न 1920 के दशक में एक युवक के मन में आया था। इसी प्रश्न ने आधुनिक भारत के एक महान वैज्ञानिक को जन्म दिया।”

आपको बता दें कि ‘मन की बात’ से पीएम मोदी विभिन्न विषयों पर जनता से अपने विचार और सुझाव साझा करते हैं। पिछले एपिसोड में पीएम ने महिलाओं के मुद्दे को उठाया था। ‘मन की बात’ के 40वें एपिसोड में पीएम ने नारी शक्ति को नमन किया था और एक बेटी को 10 बेटों के बराबर बताया था।

पीएम ने कहा कि हमारे स्कंद पुराण में कहा गया है, ‘दस पुत्रम समा कन्या.’ मतलब एक बेटी 10 बेटों के बराबर होती है। हमारे समाज में नारी को शक्ति का दर्जा दिया गया है। यह शक्ति परिवार को एकता के सूत्र में बांधती है।

पीएम ने कहा कि शक्तिकरण आत्मनिर्भरता का ही एक रूप है। पीएम ने देश की तीन बहादुर महिलाओं भावना कंठ, मोहना सिंह और अवनी चतुर्वेदी का जिक्र किया, जो फाइटर पायलट बनी हैं और सुखोई 30 में ट्रेनिंग ले रही हैं।

new jindal advt tree advt
Back to top button