मैसूर देवगौड़ा का मजबूत गढ़, लेकिन आज तक जेडीएस का कोई उम्‍मीदवार नहीं

प्रताम सिम्‍हा को अगर वोक्‍कालिगा वोट मिला तो कांग्रेस के लिए मुश्‍क‍िल

मैसूर: मैसूर भले देवेगौड़ा का गढ़ माना जाता हो, लेकिन इस लोकसभा सीट पर आज तक कभी भी जनता दल या जेडीएस का कोई उम्‍मीदवार नहीं जीता है. 1951 से अब तक इस सीट पर 13 बार कांग्रेस और 3 बार बीजेपी ने जीत हासिल की है. इनमें से दो बार बीजेपी के टिकट पर सीएच विजयशंकर जीते हैं, जो इस बार कांग्रेस के टिकट पर मैदान में हैं.

इस सीट पर कांग्रेस के सीएच विजयशंकर को उतारने का फैसला पूर्व सीएम सिद्दरमैया को जाता है. सिद्दरमैया की तरह विजयशंकर कुरबा जात‍ि से आते हैं. वहीं प्रताप सिम्‍हा वोक्‍कालि‍गा समुदाय से आते हैं. अगर उन्‍हें वोक्‍कालिगा वोट एकमुश्‍त मिला तो वह कांग्रेस उम्‍मीदवार के लिए मुश्‍‍कि‍लें खड़ी कर सकते हैं, क्‍योंकि कर्नाटक में ब्राह्मण और लिंगायत वोटर बीजेपी समर्थक माने जाते हैं.

Back to top button