उत्तर प्रदेशधर्म/अध्यात्म

‘नागनथैया मेला’ गंगा को प्रदूषण मुक्त रखने का संदेश लेकर आया, 450 साल पुरानी है परंपरा

धर्म की नगरी वाराणसी में गंगा किनारे आस्था और विश्वास का अटूट संगम का नज़ारा देखने को मिला जब यहां के तुलसीघाट पर गंगा कुछ समय के लिए यमुना में परिवर्तित हो गई और गंगा तट वृन्दावन के घाट में बदल गए. यहां पर कार्तिक मास में होने वाली लगभग 450 वर्ष पुरानी कृष्ण लीला में नागनथैया लीला का मंचन किया गया.सोमवार को काशी में गंगा तट के तुलसी घाट पर लाखों की भीड़ इस लीला को देखने के लिए आई.

नागनथैया त्योहार तुलसी घाट पर कार्तिक महीने में मनाया जाता है. यह नागनथैया लीला के रूप में लोकप्रिय है. यह आयोजन कृष्ण लीला समारोह का एक हिस्सा है. इस लीला को देखने के लिए देश-विदेश से लोग आते हैं.पौराणिक कथा नागनथैया का मूल महाभारत में वर्णित है. जब भगवान कृष्ण किशोर अवस्था थे. वह यमुना नदी में अपनी गेंद को खो देते हैं,जिसे ढूंढने के लिये वे यमुना में कूद पड़ते हैं.

यमुना में एक विषैला शेषनाग कालिया रहता था. जिसके विष का इतना प्रभाव था कि नदी का पूरा ज़ल ही काला हो गया था. बावजूद इसके कृष्ण नदी में कूद पड़ते हैं. जिस नाग के विष से पूरा गांव भयभीत था उसी नाग को खत्म करके भगवान् कृष्ण दिव्य रूप में सबके सामने प्रकट होते हैं.कृष्ण लीला में लाखों भक्तों की भीड़ जहां एक ओर आस्था में सारबोर रही वहीं आज के युग में इस लीला का उद्देश्य मात्र यह है कि गंगा को कालिया नाग रूपी प्रदूषण से मुक्त करना है. कला और संस्कृति की नगरी वाराणसी में ये परम्परा चार सौ वर्षों से भी अधिक पुरानी है. बताया जाता है कि नागनथैया का ये मेला गोस्वामी तुलसी दास के द्वारा शुरू किया गया था.

Summary
Review Date
Reviewed Item
गंगा को प्रदूषण मुक्त
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *