नामचर्चा घर में लगी आग ,पिछले महीने राम रहीम के कपड़े-जूते चोरी हुए

बहादुरगढ़। झज्जर जिले के गांव डाबौदा कलां में स्थित डेरा सच्चा सौदा के नामचर्चा घर में शुक्रवार रात संदिग्ध हालात में आग लग गई। पता चलने के बाद पुलिस ने मौके पर पहुंचकर जांच-पड़ताल शुरू कर दी थी, लेकिन अभी तक आग लगने के कारणों का पता नहीं चल पाया है। यह वही नामचर्चा घर है, जहां से ठीक 23 दिन पहले डेरा चीफ के कीमती कपड़े और जूते चोरी हो गए थे। 25 अगस्त से ही बंद था आश्रम…

बता दें कि राम रहीम इन दिनों सुनारियां जेल में दुष्कर्म के आरोप में 20 साल की कैद काट रहा है। जब उसे पंचकूला की सीबीआई कोर्ट ने दोषी करार दिया तो उसके बाद भड़की हिंसा और बाद में हाईकोर्ट के डेरे की संपत्ति अटैच करने के ऑर्डर के मद्देनजर इस नामचर्चा घर समेत हरियाणा के तमाम नामचर्चा घरों को सील कर दिया गया था।
पुलिस के मुताबिक यह आश्रम डेरा प्रमुख की सजा के बाद 25 अगस्त से ही बंद था। शांति बहाल होने के बाद यहां लगाई गई पुलिस प्रोटेक्शन हटा ली गई थी।
यहां चौकीदार डाबोदा निवासी जयपाल सुबह शाम साफ सफाई के लिए जाता था। शुक्रवार रात सूचना मिली कि यहां किसी ने आग लगा दी।
आशंका है कि शरारती तत्वों ने इस वारदात को अंजाम दिया है। हालांकि अभी यह पता नहीं चल पाया है कि आग किसने लगाई। मामले की जांच चल रही है।

पिछले महीने हुआ था ये सामान चोरी
उल्लेखनीय है कि इससे पहले 29 सितंबर रात 8 बजे जयपाल ने सब कुछ ठीक-ठाक देखा। रोज सुबह-शाम यहां देखभल के लिए आने वाले डेरा अनुयायी जयपाल 30 सितंबर की शाम करीब 8 बजे जब अंदर गया तो अंदर कमरे का ताला टूटा था।
9 बजे के करीब डेरा अनुयायी प्रेम काठपालिया ने पुलिस के फोन पर घटना की जानकारी दी तो थाना इंचार्ज जसवीर सिंह ने मामले की तफ्तीश शुरू कर दी। यहां से चोरों ने इनवर्टर, बैटरी, एक अन्य बैटरी माइक एंपलीफायर, पलंग पर लगे गद्दे, शेड व मेन गेट पर लगे चार सीसीटीवी कैमरे, एक कंप्यूटर मॉनिटर के अलावा शीशे के शोरूम में अनुयायियों के दर्शनार्थ लगी राम रहीम की वर्दी व जूते भी चुरा लिए थे।

मामले अभी और भी हैं
गुरमीत राम रहीम से जुड़े मामले में दो जनहित याचिकाओं पर मंगलवार को सुनवाई होगी। एक PIL हरियाणा के शिक्षा मंत्री रामविलास शर्मा के बयान पर है। मंत्री ने कहा था कि आस्था पर धारा-144 नहीं लगती। वहीं, गुरमीत राम रहीम के 50वें बर्थ-डे पर 51 लाख रुपए देने के मामले में भी PIL दायर हुई है।
12 साल पुराने रामचंद्र छत्रपति जर्नलिस्ट मर्डर केस में सीबीआई कोर्ट में सुनवाई चल रही है। इस जर्नलिस्ट ने ही बाबा के खिलाफ खुलासे के बाद अपने शाम के अखबार में खबरें छापी थीं। 2002 में गोली मारकर उनकी हत्या कर दी गई थी।
राम रहीम पर 462 लोगों को नपुंसक बनाने का आरोप है। इस मामले में अक्टूबर में फैसला आ सकता है।

advt
Back to top button