नमो नमो जाएंगे, जय भीम वाले आएंगे : मायावती

लखनऊ : गन्ना मिल बेचने के मामले में सीबीआइ की कार्रवाई के बीच बसपा सुप्रीमो ने कहा कि पूर्व की कांग्रेस की तरह भाजपा ने भी अपने राजनीतिक लाभ के लिए विरोधियों पर सीबीआइ, ईडी और आइबी का दुरुपयोग किया है, जो जारी है। राफेल का नाम लिये बिना कहा कि अब तो रक्षा सौदों में धांधली हो रही है। भाजपा सरकार पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि अब नमो नमो जाएंगे और जय भीम वाले आएंगे।

जातिवाद को लेकर उठ रहे सवालों पर मायावती ने कहा कि यदि हमको मौका मिला तो हम देश भर में सर्वजन हिताय सर्वजन सुखाय नीतियों पर आधारित ही अपनी सरकार चलाएंगे। बसपा सुप्रीमो दुबग्गा में मोहनलालगंज के प्रत्याशी सीएल वर्मा के समर्थन में आयोजित जनसभा को संबोधित कर रही थी। इस दौरान मंच पर मौजूद लखनऊ से सपा प्रत्याशी पूनम सिन्हा के लिए भी उन्होंने वोट देने की अपील की।

धौरहरा में हेलीकॉप्टर में आयी खराबी के कारण चार घंटे देरी से मायावती जनसभा में पहुंचीं। उनके साथ भतीजे आकाश आनंद भी थे। जनसभा में भाजपा के साथ ही कांग्रेस पर भी निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि आजादी के बाद से केंद्र और राज्य दोनो जगह कांग्रेस की सत्ता थी। गलत नीतियों के कारण केंद्र व राज्यों से कांग्रेस को सत्ता से बाहर होना पड़ा। गरीब, बेरोजगार, किसान, मेहनतकश लोगों के लिए ठोस कदम नहीं उठाए गए। तब बसपा का गठन हुआ। इसके बाद सपा व अन्य दलों के साथ गठबंधन किया। आज कांग्रेस कहती है कि सत्ता का एक और मौका दें। कांग्रेस से सवाल पूछना चाहिए कि आजादी के बाद सबसे ज्यादा समय तक शासन का मौका दिया। तब भी लंबे समय तक जनता के हितों का ध्यान नहीं दिया।

उन्होंने कहा कि भाजपा इस बार सत्ता से बाहर जाएगी। अब चौकीदार की नाटकबाजी व जुमलेबाजी से काम नहीं चलेगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जनता से जो चुनावी वादे किए उनका एक चौथाई भी पूरा नहीं किया। इसके स्थान पर इनका ज्यादातर समय अपने पूंजीपतियों और धन्नासेठों को और भी अधिक धनवान बनाने में और उनको बचाने में इनकी चौकीदारी में बीत गया। इस सरकार में किसान अपनी समस्याओं को लेकर काफी ज्यादा दुखी हैं।

मायावती ने कहा कि यह बात जरूर खटक रही होगी कि मैं कांग्रेस को विरोधी मान रही हूं। कांग्रेस से बिहार में शत्रुघ्न सिन्हा चुनाव लड़ रहे हैं और यहां मैं उनकी पत्नी पूनम सिन्हा के लिए वोट मांग रही हूं। लेकिन मैं बता दूं कि शत्रुघ्न सिन्हा बहुजन मूवमेंट से बहुत प्रभावित हैं। बिहार में हमारी पार्टी और गठबंधन का जनाधार नहीं है। यदि वहां हमारा जनाधार होता तो आज शत्रुघ्न सिन्हा कांग्रेस से नहीं हमारे टिकट पर चुनाव लड़ रहे होते।

Back to top button