राष्ट्रीय

नाना पाटेकर फेरीवालों के समर्थन में उतरे

नाना पाटेकर फेरीवालों के समर्थन में उतरे

राज ठाकरे के फेरीवालों के खिलाफ आंदोलन के बाद, कई फेरीवाले बेरोजगार हो गए हैं. नाना पाटेकर ने भी इन बेरोजगार फेरीवालों के समर्थन किया. उन्होंने कहा कि गरीब फेरीवालों के बारे में भी सोचना चाहिये था. नाना का ये बयान एमएनएस को रास नहीं आया है और राज ठाकरे ने अपनी कई सालों पुरानी दोस्ती भुलाकर उनपर जमकर हमला बोला है.

‘नाना पाटेकर उंगली करना बंद करें’

राज ठाकरे को ये बात सहन नहीं हुई की नाना पाटेकर उत्तरभारतीय फेरीवालों का समर्थन किया और उन्होने कई सालों पुरानी दोस्ती भुलाकर नाना पाटेकर को भला बुरा कहना शुरू कर दिया. ठाकरे ने आपत्ती जताते हुए कहा था की, जिस चीज के बारे में पता नहीं हैं उसे बारे में नाना पाटेकर न बोलें, हर मुद्दे पर उंगली करना बंद करें. राज ठाकरे ने न सिर्फ उनकी मिमिक्री की बल्कि वेलकम फिल्म में उनके ‘आलू ले लो-कांदा ले लो’ डायलॉग का भी मजाक उड़ाया है

राज ठाकरे के इस बयान के बाद कई दिनों तक नाना पाटेकर खामोश थे, लेकिन पुणे में आर्मी की पासिंग आउट परेड में शिरकत करने पहुंचे नाना पाटेकर से राज ठाकरे के बयान पर पूछा गया तो उनका दर्द छलक आया. नाना पाटेकर ने कहा कि, राज ठाकरे कुछ भी कह सकतें हैं, उन्हे आजादी हैं, राज ने कुछ नहीं खोया लेकिन उनकी पार्टी एमएनएस का एक वोट जरूर कम हो गया.

‘नाना पाटेकर बताएं कि वो किसके साथ हैं’

MNS को वोट नहीं देने के नाना पाटेकर के सरेआम ऐलान के बाद मनसे बिफर पड़ी. एमएनएस ने कहा कि, मतदान गुप्त होता है ऐसे में नाना सोच समझकर बयान दें और नाना ये भी साफ करें की वो किसके साथ हैं.

टूट गई दोस्ती

नाना और राज ठाकरे की दोस्ती बहुत पुरानी है. चुनावों में नाना उनकी पार्टी के लिये वोट भी करतें थे, लेकिन जिस अभद्र भाषा का प्रयोग राज ने उनके खिलाफ किया वो नाना को सहन नहीं हुआ और दोनों की राहें अलग हो गईं.

गौरतलब हैं की, सियासी जमिन खो चुके राज ठाकरे मराठी वोट पाने के लिये ही नये सिरे से उत्तरभारतीयों के खिलाफ अभियान चला रहे हैं. लेकिन अब नाना पाटेकर जैसे मराठी मतदाता ही जब सरेआम कह रहें हैं की वो एमएनएस को वोट नहीं देंगें तो राज को अपनी रणनीती पर दुबारा सोचना होगा.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.