नारायणपुर : धान के मुख्य कीटो का ऐसे करें नियंत्रण

तना के निचले भाग को देखने से वहा एक छोटा सा पिन के आकार का छेद दिखाई देता है और उस भाग को चीरकर देखने से यह कीट देखा जा सकता है

नारायणपुर 29 जुलाई 2021: कृषि विज्ञान केंद्र नारायणपुर धान की फसल नारायणपुर जिले के 90 प्रतिषत किसानो की आजीविका की एकमात्र सहारा है। अभी नारायणपुर क्षेत्र के अधिकतर भाग में धान की रोपनी लगभग हो चुकी है तथा जो किसान भाई आग्रिम बुवाई तथा रोपाई किये है उनके खेतो में शत्रु कीटो का प्रकोप देखा जा रहा है। जिनके प्रबंधन हेतु कृषि विज्ञान केंद्र के वैज्ञानिकों द्वारा लगातार किसानों का प्रक्षेत्र भ्रमण कर प्रबंधन हेतु सलाह प्रदान किया जा रहा है। इसी क्रम में आज कृषि विज्ञान केंद्र नारायणपुर से सुरज गोलदार (कार्यक्रम सहायक पौध रोग विज्ञान) तथा ग्रामीण कृषि विस्तार आधिकारी प्रभात बिस्वास द्वारा ग्राम बखरुपारा के किसान सुरेन्द्र सिंह जी के खेत का अवलोकन किया और देखा गया कि उनके खेत में तना छेदक तथा पत्ती मोडक कीटो का प्रकोप हुआ है तथा उसके निराकरण के उपाय बताये गये है। किसान भाई धान के विभिन्न कीटों का नियंत्रण सुझाये गये तरीके अपनाकर कर सकते हैं।

जिन कीटों से धान की फसल की हानि होती है उनमें तना छेदक, कीट प्रमुख है। कभी कभी धान के नर्सरी स्टेज में भी देखा जा सकता है परंतु इसका प्रकोप रोपाई के 15-20 दिन के बाद से धान की बाली निकलते समय तक अधिक दिखाई देता है। यह कीट तने के अंदर घुसकर तना के मुख्य भाग को खाता है जिससे धान के पौधे के मध्य की पत्तीया व तना सूख जाती है और उस तने को खींचने से आसानी से बाहर निकल जाती है। तना के निचले भाग को देखने से वहा एक छोटा सा पिन के आकार का छेद दिखाई देता है और उस भाग को चीरकर देखने से यह कीट देखा जा सकता है। तना छेदक की इल्लिया हल्के पीले रंग के होते है।

इसके अलावा पत्ती मोडक कीट पत्ती को गोलाकार में मोड़कर पत्ती के हरा भाग को खुरचकर खाती है जिससे पत्तियो पर सफ़ेद धरियां बन जाती है। इसके रोकथाम के लिए कारटाप हाईड्रोक्लोराईड 4 प्रतिषत जी. 5 कि.ग्रा. प्रति एकड़ छिड़काव अथवा फिप्रोनिल 5 प्रतिषत एस.सी. 400 मि.ली. प्रति एकड़ के हिसाब से स्प्रे करना चाहिये। माहू – ये फसल में गभोट तथा बाली अवस्था में आधिक नुकसान पहूँचाते है. सफ़ेद, हरा तथा भूरा महू का फसल में प्रकोप होता है. ये तने तथा पत्तियों से रस चूसकर पौधे को कमजोर करते है, इसके आधिक प्रकोप से फसल झुलसी हुई दिखाई देता है. और पूरी तरह से नष्ट हो जाती है।

वहीं गंधी बग मच्छर के आकृति के, मच्छर से बडे आकार के हरापन लिए भूरा रंग के होते है, ये कीट पत्तियों से एवं मुख्यतरू बलियो से रस चूसते है, इससे दाने पोंचे रह जाते हैं। कटुआ- कटुआ (आर्मी वार्म) किट के इल्ली हल्के हरे से भूरे रंग के और शरीर के ऊपर सफेद हल्के पीले रंग के धरियां पाई जाती है। ये कीट नर्सरी अवस्था में पत्तियो को व बाली अवस्था में बलियों को काटकर खेत में गिरा देते है। माहू, गंधी बग तथा कटुआ कीट के रोकथाम के लिए फिप्रोनिल 4 प्रतिषत $ थायोमिथेक्साम 4 प्रतिषत एस.सी. 30-40 मि.ली. प्रति 15 लीटर पानी के हिसाब से स्प्रे करना चाहिये अथवा थायोमिथेक्साम 5 प्रतिषत डब्लु.जी. 5 ग्राम प्रति 15 लीटर पानी के हिसाब से स्प्रे करना चाहिये अथवा लैम्डा साईहेलोथ्रिन 5 प्रतिषत ई.सी. 7.5-10 मि.ली. प्रति 15 लीटर पानी के हिसाब से स्प्रे करना चाहिये अथवा थायोमिथेक्साम 12.6 प्रतिषत $ लैम्डा साईहेलोथ्रिन 9.5 प्रतिषत जेड.सी. 6-8 मि.ली. प्रति 15 लीटर पानी के हिसाब से स्प्रे करना चाहिये।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button