छत्तीसगढ़

नरेन्द्र मोदी का दोहरा चरित्र बेनकाब: कांग्रेस

देश के साथ-साथ छत्तीसगढ़ के साथ भी किया छलावा

रायपुर : छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी के महामंत्री एवं संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी, प्रदेश कांग्रेस के प्रभारी महामंत्री गिरिश देवांगन, पूर्व सांसद पी.आर. खूंटे, आदिवासी कांग्रेस के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष मनोज मंडावी और सीतापुर विधायक अमरजीत भगत ने एक संयुक्त बयान में कहा है कि नरेंद्र मोदी ने कवर्धा में कहा था कि परिवारवाद वंशवाद के भाजपा खिलाफ है कवर्धा जी संसदीय क्षेत्र राजनांदगांव का हिस्सा है वहां से आज मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह का बेटा अभिषेक सिंह लोकसभा सदस्य है क्या यह परिवारवाद नहीं है? धमतरी की सभा में नरेंद्र मोदी ने 2014 के लोकसभा चुनाव के समय कहा था कि हम जीरम की जांच कराएंगे और जीरम के गुनहगारों को सजा देंगे।

विधानसभा से सर्वसम्मति से पारित प्रस्ताव के बावजूद नरेंद्र मोदी की सरकार ने क्यों सीबीआई जांच नहीं कराई? और एनआईए की जांच की दिशा नरेंद्र मोदी की सरकार बनते ही क्यों बदल गई? षडयंत्रकारियों को गिरफ्तार करना तो दूर की बात उन को छूने की कोशिश भी क्यों बंद हो गई? जीरम के गुनहगार कहकर आत्मसमर्पित नक्सलियों की बारात में पुलिस के आला अधिकारी नाचते हुए क्यों नजर आए? यह है मोदी का दोहरा चरित्र। मोदी ने कहा था काला धन वापस आएगा। आज हो रहा है उल्टा विदेशों से काला धन नहीं आ रहा है। अपने देश से बैंकों का धन निरव मोदी मेहुल चैकसे ललित मोदी, विजय माल्या जैसों के द्वारा बाहर ले जाया जा रहा है, हर देशवासी के खाते में 15 लाख तो सपने की बात हो गई।

हर देशवासी लूटा जा रहा है, जीएसटी और अन्य कर प्रावधानों से बैंक के खाते में जिस गरीब के पैसा कम होता है, बैंक से और पैसा काट रहे हैं रोजगार निर्माण आज क्या हो रहा है नोटबंदी और जीएसटी व्यापार उद्योग विरोधी नीतियों के कारण रोजगार थे वह भी बेरोजगार हो रहे हैं ऐसे बेरोजगारों को मोदी की पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह पकौड़ा बेचने की सलाह देते है आरएसएस के भीख मांगने को रोजगार देश के बेरोजगारों का नौजवानों का युवाओं का अपमान नरेंद्र मोदी ने किया।

मोदी का 4 वर्षों में यह हाल हुआ है कि कहीं बाबा साहब अंबेडकर की मूर्ति को गेरुए रंग में होता जा रहा है कहीं अंबेडकर की मूर्तियां तोड़ी जा रही हैं बाबा साहब अंबेडकर के बनाए हुए संविधान के मूल स्वरूप से छेड़छाड़ की जा रही है सर्वोच्च न्यायालय के फैसले का नाम लेकर अनुसूचित जाति जनजाति समाज के कमजोर वर्गों को असुरक्षित बनाने की साजिश रची जा रही है यह नहीं बताया जा रहा है कि मोदी की केंद्र सरकार और भाजपा की महाराष्ट्र सरकार के वकीलों ने अदालत में क्या-क्या कहा कैसे गलत तथ्यों को प्रस्तुत किया गया इसे नहीं बताया जा रहा है और अदालत के फैसले का नाम लेकर बाबा साहब अंबेडकर के मानने वालों के आसपास जो सुरक्षा का घेरा है उसको हटाने की साजिश रची जा रही है यह भारत का यह हाल कर दिया है मोदी सरकार ने।

Tags

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *