डिप्टी कमिश्नर ने 12 महिला पार्षदों वाले वॉट्सऐप ग्रुप पर अश्लील फोटो डाली

नई दिल्ली. पूर्वी दिल्ली नगर निगम में शाहदरा जोन के डिप्टी कमिश्नर (डीसी) अतीक अहमद ने शनिवार देर रात 12.05 बजे एक वॉट्सऐप ग्रुप पर अश्लील फोटो भेज दी।

इस ग्रुप में 12 महिला पार्षद भी हैं। फोटो देखने के बाद ग्रुप में मौजूद आनंद विहार वार्ड से पार्षद गुंजन गुप्ता ने अतीक अहमद के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है। पुलिस ने पार्षद से ग्रुप के फोटो मांगे…

– शाहदरा जोन में विकास के कामों के रिव्यू और सूचनाओं के लिए अतीक अहमद ने वार्ड्स कमेटी शाहदरा (एस) नाम से वॉट्सऐप ग्रुप बनाया है। इसमें करीब 50 सदस्य हैं। जिनमें जोन के सभी निगम पार्षद और अधिकारी शामिल हैं।

– पार्षद गुंजन की शिकायत पर आनंद विहार थाने की पुलिस ने जांच शुरू कर दी है और पार्षद से ग्रुप के फोटो मांगे हैं। हिमांशी पांडे ने भी शकरपुर थाने में इस मामले की शिकायत दर्ज कराई है।

– बता दें कि अगर क्लास वन या आईएएस अफसर किसी सोशल साइट पर अश्लील पोस्ट करता है तो यह और भी आपत्तिजनक और आचरण के साथ सर्विस रूल का वॉयलेशन है।
फोटो डिलीट कर रहा था, पता नहीं कैसे पोस्ट हो गई: डीसी

– डीसी अतीक अहमद ने कहा, “रात को मुझे किसी ने यह पोस्ट भेजी थी, फोटो डिलीट कर रहा था, फोन हैंग हो गया, पता नहीं कैसे यह ग्रुप में चली गई। इसके लिए मैंने रात को ही ग्रुप के सभी सदस्यों से माफी मांग ली थी।”

पुलिस ने क्या कहा?

– शाहदरा जिले की डीसीपी नूपुर प्रसाद ने कहा, “मामले की शिकायत मिली है, अभी जांच की जा रही है। शिकायत करने वाली महिला पार्षद को ग्रुप में आए मैसेज की फोटो देने के लिए कहा गया है, जिससे सबूत जुटाए जा सकें।”

हमें कोई जानकारी नहीं: कमिश्नर, ईडीएमसी

– पूर्वी दिल्ली नगर निगम के कमिश्नर डॉ. रणवीर सिंह ने कहा, “हमें इस संबंध में किसी तरह की शिकायत के बारे में कोई भी जानकारी नहीं है, मेरे पास शिकायत आती है तो हम इस पर कड़ी कार्रवाई करेंगे।”

अश्लील मैसेज पर 7 साल की जेल

– साइबर एक्सपर्ट राजन शर्मा ने बताया कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर बनाए गए नए साइबर एक्ट के तहत आईटीए एक्ट की धारा 60ए के तहत ग्रुप में अश्लील पोस्ट करने वालों पर आईपीसी की धाराओं में भी आपराधिक मामला दर्ज हो सकता है।

आरोप साबित होने पर 7 साल की जेल तक की सजा हो सकती है। इसमें ग्रुप का कोई भी सदस्य पुलिस में शिकायत कर सकता है और आरोपी को बिना वारंट के गिरफ्तार किया जा सकता है।

एडीसी, फिर भी 4 बार बने डीसी

– अतीक अहमद को अयोग्य होते हुए भी चार बार डीसी अप्वाइंट किया गया है। अतीक अहमद एडिशनल डिप्टी कमिश्नर (एडीसी) रैंक के ऑफिशियल हैं।

– निगम के एक अधिकारी ने बताया कि 2012 में अतीक टेलिकम्यूनिकेशन से डेपुटेशन पर आए थे। इनके डेपुटेशन की अवधि इसी साल खत्म हो चुकी है। सबसे पहले अतीक को डीसी आईटी, फिर शाहदरा साउथ में डीसी अप्वाइंट किया गया।

advt
Back to top button